Tuesday , December 19 2017

सदारती(राष्ट्रपती) उम्मीदवार के लिए जारी सरगर्मीयों में नया मोड़

* मनमोहन सिंह, अबदुलकलाम और सोमनाथ चटर्जी तीन नए नाम, ममता बनर्जी और मुलाय‌म सिंह की तजवीज़

* मनमोहन सिंह, अबदुलकलाम और सोमनाथ चटर्जी तीन नए नाम, ममता बनर्जी और मुलाय‌म सिंह की तजवीज़
नई दिल्ली । सदारती(राष्ट्रपती) उम्मीदवार के चुनाव‌ का मसला पेचीदा होता जा रहा है और आज इस ने नाटकीय मोड़ इख़तियार कर लिया।पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तुणमुल कोंग्रेस कि प्रमुख‌ ममता बनर्जी ने अपने नए सियासी साथी समाजवादी पार्टी प्रमुख‌ मुलाय‌म सिंह यादव के साथ मिल कर सदारती(राष्ट्रपती) उम्मीदवार के चुनाव‌ को एक नई शक्ल दे दी। उन्हों ने 3 उम्मीदवारों का एलान किया है, जिन में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के इलावा पुर्व राष्ट्रपती ए पी जे अबदुल कलाम और पुर्व‌ लोक सभा स्पीकर सोमनाथ चटर्जी शामिल हैं।

ममता बनर्जी ने युपीए चेयरप्रसन और‌ कांग्रेस कि प्रमुख‌ सोनीया गांधी से 10 जनपथ में मुलाक़ात के बाद मिडीया के नुमाइंदों को बताया कि कांग्रेस प्रमुख‌ ने इन से कहा कि केन्द्रीय फैनान्स मंत्री प्रणब मुखर्जी और उप राष्ट्रपती हामिद अंसारी राष्ट्रपती उम्मीदवार के लिए उन की तर्जीहात हैं।

इस दौड़ में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का नाम आज पहली मर्तबा शामिल किया गया लेकिन सीयासी(राजनीतीक) हलक़ों में ये अफवाहें चल रही हैं कि मंसूबा बंद तौर पर एसा किया जा रहा है क्योंकि कांग्रेस मुख़्तलिफ़ मालीयाती स्कैंडलों और क़ीमतों में बढावे पर कंट्रोल में नाकामी की वजह से हुकूमत की खराब‌ इमेज को ख़त्म‌ करने की कोशिश कर रही है।

ममता बनर्जी और मुलाय‌म सिंह यादव की तरफ‌ से 3 नए उम्मीदवारों के नाम का एलान किए जाने के बाद कांग्रेस और प्रधानमंत्री के दफ़्तर ने बातचित नहि की है। खासकर‌ डाक्टर मनमोहन सिंह के बारे में सरकारी ब‌यान भी जारी नहीं किया गया। लेकिन‌ कांग्रेस ज़राए(सुत्रो) ने बताया कि इन तीन नामों पर पार्टी क़ियादत ग़ौर करेगी।

यू पी ए के मददगार‌ एन सी पी प्रमुख‌ शरद पवार जिन्हों ने पहले प्रण‌ब मुकर्जी की ताईद का इशारा दिया था आज कहा कि यू पी ए को इत्तिफ़ाक़ राय पैदा करना चाहीए। तृणमूल कांग्रेस । समाजवादी पार्टी की तरफ‌ से 3 नए नाम पेश किए जाने पर‌ उन्हों ने ये बात कही। इस से पहले यू पी ए के सदारती(राष्ट्रपती पद के) उम्मीदवार के बारे में पिछ्ले कई दिन से जारी तजस्सुस और सनसनी को ख़त्म‌ करते हुए कांग्रेस की सदर सोनीया गांधी ने आख़िर कार‌ आज ये वाज़िह कर दिया कि फैनान्स मंत्री प्रणब‌ मुकर्जी कांग्रेस की पहली पसंद होंगे जबकि उप राष्ट्रपती हामिद अंसारी दूसरी पसंद हैं।

मिसिज़ गांधी ने तृणमूल कांग्रेस की सदर ममता बनर्जी पर अपने इस ख़्याल को वाज़िह कर दिया लेकिन उन्हों (बनर्जी) ने अपनी पार्टी की ताईद का कोई वाय‌दा नहीं किया और कहाकि वो समाजवादी पार्टी लीडर मुलाय‌म सिंह यादव और ख़ुद अपनी पार्टी तृणमूल कांग्रेस के लिडरों से बातचित‌ के बाद अपने मौक़िफ़ को वाजिह करेंगी।

मिसिज़ सोनीया गांधी से 30 मिनट की मुलाक़ात के बाद बनर्जी ने अख़बारी नुमाइंदों से कहाकि हम ने तफ़सीली बातचित‌ कि और‌ सोनीया जी ने मुझ से कहाकि वो 2 , 4 मददगारों से बातचीत कर चुकी हैं और उन की पहली पसंद (सदारत के लिए) प्रणब‌ मुकर्जी और दूसरी पसंद हामिद अंसारी हैं।

पश्वीम बंगाल‌ की चीफ़ मिनिस्टर ने कहाकि मिसिज़ गांधी को उन्हों ने बताया कि फ़िलहाल में कुछ नहीं कह सकती, हमें मुलाइम सिंह यादव और ख़ुद मेरी अपनी पार्टी से बातचित‌ करने की ज़रूरत है। इस के बाद ही हम कुछ कह सकते हैं। बनर्जी ने जिन की पार्टी सत्तादार‌ यू पी ए की एक अहम मददगार पार्टी है, मुलायम सिंह यादव से कल शाम से आज दोपहर तक दूसरी मर्तबा मुलाक़ात की।

तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख‌ समाजवादी पार्टी के प्रमुख पश्विम बंगाल‌ और उत्तरप्रदेश को मालीयाती पेकेज दिलाने के लिए कोशिशें कर रही हैं। लेकिन‌ ममता बनर्जी ने मिसिज़ गांधी से मुलाक़ात से पहले इसरार के साथ कहाकि उन का असल मुतालिबा यही है कि मर्कज़ी कर्ज़ों पर शरह सूद की अदायगी को 3 साल तक रोक दिया जाए।

उन्हों ने अपने इस मुतालिबे को सदारती इंतिख़ाबात(राष्ट्रपती पद के चुनाव) में यू पी ए उम्मीदवार की ताईद के लिए अपनी पार्टी की ताईद से नहीं जोडा। एक सवाल पर बनर्जी ने अख़बारी नुमाइंदों को जवाब दिया कि नहीं, नहीं, नहीं (सदारती इंतिख़ाबात में यू पी ए की) ताईद से रियासत के लिए मालीयाती पेकेज को नहीं जोडा गया है।

ये दोनों अलग अलग चिजें हैं। तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख‌ ने कहाकि जब कभी में दिल्ली आती हूँ बाज़ गोशों की तरफ़ से इस किस्म की अफ़्वाहें फैलाई जाती हैं और में इन अफ़्वाहों की बुराई करती हूँ।

बनर्जी ने कहाकि पहले बाएं बाज़ू महाज़ हुकूमत की पोलिसीयों के सबब पश्वीमी बंगाल‌ की आर्थीक‌ हालत बहुत खराब‌ है चुनांचे मैं चाहती हूँ कि मर्कज़ी क़र्ज़ पर लागु सूद की वसूली को तीन साल के लिए रोक दिया जाए। उन्हों ने कहाकि ये मुतालिबा एक साल पुराना है जिस का राष्ट्रपती उम्मीदवार की ताईद से कोई ताल्लुक़ नहीं है।

TOPPOPULARRECENT