Thursday , December 14 2017

सनअती पैदावार में सुस्त रवी, तरक़्क़ी की शरह 2.7 फ़ीसद

पैदावारी शोबा के नाक़िस मुज़ाहरा और सरमाया कारी(invest) की अशीया के बहाओ में कमी के सबब अगस्त के दौरान सनअती तरक़्क़ी में सुस्त रवी की शरह 2.7 फ़ीसद तक पहूंच गई जिस के नतीजे में रिज़र्व बैंक औफ़ इंडिया को इस महिने के दूसरे हफ़्ते में अपनी पा

पैदावारी शोबा के नाक़िस मुज़ाहरा और सरमाया कारी(invest) की अशीया के बहाओ में कमी के सबब अगस्त के दौरान सनअती तरक़्क़ी में सुस्त रवी की शरह 2.7 फ़ीसद तक पहूंच गई जिस के नतीजे में रिज़र्व बैंक औफ़ इंडिया को इस महिने के दूसरे हफ़्ते में अपनी पालिसी पर नज़रसानी करते हुए कलीदी शरह सूद में तख़फ़ीफ़ करना पड़ा था।

इस‌ साल अप्रैल और अगस्त के बीच‌ सनअती पैदावार 0.4 फ़ीसद रही जो पिछ्ले साल इसी मुद्दत के दौरान 5.6 फ़ीसद थी। सनअतों की मजमूई तरक़्क़ी पिछ्ले साल अगस्त में 3.4 फ़ीसद दर्ज की गई थी। सनअती पैदावारी शोबा जो सनअती पैदावारी इशारीया का 75 फ़ीसद हिस्सा होता है।

इस साल अगस्त के दौरान 2.9 फ़ीसद की सुस्त रफ़्तार से तरक़्क़ी की है। इस के बरख़िलाफ़ पिछ्ले साल ये शरह 3.9 फ़ीसद थी। अश्या-ए-सारिफ़ीन(खरीदने वालो) की पैदावार अगस्त में पाँच फ़ीसद रही जो पिछ्ले साल इसी महीने में महिज़ 2.1 फ़ीसद थी। तवानाई की पैदावार में अप्रैल और अगस्त के दौरान 4.8 फ़ीसद का इज़ाफ़ा हुआ है। जिस के बरख़िलाफ़ पिछ्ले साल बर्क़ी पैदावार 9.5 फ़ीसद थी।

TOPPOPULARRECENT