Sunday , December 17 2017

सनअत नगर रेलवे गुड्स शैड पर सिमेंट की माल गाड़ीयों की आमद बंद

हैदराबाद ०‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍६ अक्टूबर (सियासत न्यूज़) गुज़श्ता एक साल से ज़्यादा अर्सा से सनअत नगर रेलवे गुड्स शैड पर मुख़्तलिफ़ रियास्तों से आने वाली समनट से भरी माल गाड़ीयों की आमद-ओ-रफ़त बंद है। इस से क़बल सनअत नगर रेलवे गुड्स शै

हैदराबाद ०‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍‍६ अक्टूबर (सियासत न्यूज़) गुज़श्ता एक साल से ज़्यादा अर्सा से सनअत नगर रेलवे गुड्स शैड पर मुख़्तलिफ़ रियास्तों से आने वाली समनट से भरी माल गाड़ीयों की आमद-ओ-रफ़त बंद है। इस से क़बल सनअत नगर रेलवे गुड्स शैड में यौमिया एकता दो समनट से भरी माल गाड़ियां आया करती थीं। यहां काम करने वालों का कहना है कि रेलवे ओहदेदार और बड़े गत्ता दारों ने आपस में ताल मेल करते हुए सनअत नगर गुड्स शैड आने वाली समनट की माल गाड़ीयों का रुख दूसरे रेलवे गुड्स शैड की जानिब तबदील कर दिया है।

यहां पर हम्माल का काम करने वाले 1300 अफ़राद ने भारी रक़म अदा करते हुए हम्माली की रुकनीयत हासिल की ही। तफ़सीलात के बमूजब सनअत नगर रेलवे गुड्स शैड पर आने वाली समनट की माल गाड़ीयों की माहाना तादाद 40 ता 45 हुआ करती थी जो गुज़श्ता एक साल से मुकम्मल तौर पर बंद ही। इस के इलावा नमक । यूरिया और घरेलू इस्तिमाल के ग़िज़ाई अजनास और मुख़्तलिफ़ किस्म की अशीया माल गाड़ीयों के ज़रीया मुख़्तलिफ़ रियास्तों से सनअत नगर गुड्स शैड आया करती और यहां शहर के मुख़्तलिफ़ मुक़ामात के डीलर्स को माल सरबराह किया जाता था लेकिन यहां के हालात कुछ इस तरह होचुके हैं कि सनअत नगर रेलवे गुड्स शैड पर बड़े गत्ता दारों की मनमानी चल रही है।

ये लोग ट्रैफ़िक के मसला को आड़ बनाकर यहां पर आने वाली माल गाड़ीयों का रुख तबदील कररहे हैं। यहां पर काम करने वालों में 1300 हम्माल और आटो ड्राईवरस, लारी ड्राईवरस, डी सी ऐम वयान ड्राईवरस काम मुतास्सिर होचुका ही। ये लोग गुज़श्ता छः माह से काम ना होने से काफ़ी परेशान हैं।

यहां पर सूपरवाइज़र की ख़िदमत अंजाम देने वाले एक ख़ानगी मुलाज़िम ने बताया कि माहाना 5 करोड़ रुपय मज़दूरी हुआ करती थी। एक मालगाड़ी ख़ाली करने केलिए दो लाख रुपय से ज़्यादा हम्माली रक़म हुआ करती ही। इस तरह समनट की माहाना 40 ता 45 माल गाड़ीयों की आमद बंद हो चुकी है।

इस के इलावा नमक, यूरिया और ज़रूरी इस्तिमाल की अशीया माल गाड़ीयों की आमद-ओ-रफ़त में काफ़ी हद तक कमी होने के बाइस यहां पर काम करने वालों को मुश्किलात का सामना करना पड़ रहा है।

इन लोगों का कहना है कि सनअत नगर गुड्स शैड में काम करने वालों में ग़रीब तबक़ा ज़्यादा है। सनअत नगर गुड्स शैड के हम्माली का काम करने वाले और दूसरे मज़दूरों ने वज़ारत रेलवे और वज़ारत फ़ीनानस के आला हुक्काम से गज़॓रश की है कि इस जानिब तवज्जा दें और सनअत नगर गुड्स शैड पर माल गाड़ीयों की आमद को बहाल करें

TOPPOPULARRECENT