Sunday , June 24 2018

सपा-कांग्रेस का गठबंधन नाकामियों को छुपाने के लिए हुआ है: ओवैसी

एआईएमआईएम के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने आज उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए हुए समाजवादी पार्टी-कांग्रेस गठबंधन को “विरोधाभासों का एक गुच्छा” करार दिया और कहा कि दोनों दलों ने अपनी कमजोरियों को कवर करने के लिए एक दूसरे का साथ लिया है।

ओवैसी ने दावा किया कि इस गठबंधन के 20 उम्मीदवार ऐसे हैं जो समाजवादी पार्टी के हैं लेकिन कांग्रेस के टिकेट पर चुनाव लड़ेंगे।

उत्तर प्रदेश में कांग्रेस 105 सीटों पर और सपा 298 सीटों पर चुनाव लड़ेगी।

“असल में, यह विरोधाभासों का गुच्छा है,” ओवैसी, जिनकी पार्टी ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) महत्वपूर्ण विधानसभा चुनाव के लिए चुनाव के मैदान में भी है, उन्होंने एक साक्षात्कार में कहा है।

उन्होंने पूछा कि अगर गठबंधन का उद्देश्य मुस्लिम वोट को मजबूत करने के लिए था, तो 2014 के लोकसभा चुनाव में एक भी मुस्लिम उत्तर प्रदेश में क्यों नहीं जीत सकता था।

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री इस गठबंधन की मदद से अपनी नाकामियां छुपाना चाहते हैं क्योंकि वह अपने वादों को पूरा करने में असमर्थ रहे हैं।

“क्या उत्तर प्रदेश के लोग 2012 के सपा के घोषणापत्र या 2013 के दंगों को भूल जायेंगे? मुसलमानों से किया आरक्षण का वादा कहाँ है? अखिलेश ने इस वादे को आगे ले जाने के लिए एक समिति तक नहीं बनाई। ये कुछ मुश्किल सवाल हैं जो जनता अखिलेश से पूछेगी,” उन्होंने कहा।

अखिलेश के गरीब महिलाओं को प्रेशर कुकर देने के वादे पर उन्होंने कहा कि अखिलेश अभी खुद प्रेशर कुकर जैसी स्तिथि में हैं।

“अखिलेश अपने विकास की बात करते हैं लेकिन यह विकास है कहाँ? विकास आज गरीब तबके को बहकाने का एक ज़रिया बन गया है, चाहे वह दलित हों या अल्पसंख्यक।”

उन्होंने मोदी और अखिलेश को एक जैसा बताते हुए कहा, “मोदी और अखिलेश में ज़्यादा अंतर नहीं है। दोनों से बहुत चतुराई से विकास के एजेंडा को इस्तेमाल कर जनता को बहकाया है लेकिन विकास नहीं हुआ है। मोदी नौकरिया देने के वादे को पूरा नहीं कर पाए। अखिलेश दावा करते हैं कि उन्होंने पांच साल में 4.52 लाख नौकरियां दी हैं। जनता इस पर विश्वास नहीं करती है।”

“जनता मोदी और अखिलेश को उनकी पांच साल की परफॉरमेंस के आधार पर परखेगी और सवाल खड़े करेगी,” एआईएमआईएम अध्यक्ष ने कहा।

TOPPOPULARRECENT