Friday , November 24 2017
Home / India / सपा की गुलामी से मु्स्लिम वोटरों को निकालने की तैयारी में ओवैसी

सपा की गुलामी से मु्स्लिम वोटरों को निकालने की तैयारी में ओवैसी

फ़हद सईद

लखनऊ। यूपी विधानसभा चुनावों के लिए मुस्लिम राजनीति एक नया गणित रच रही है।आल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल- मुसलमीन (एआईएमआईएम) के राष्ट्रीय अध्यक्ष असदद्दीन ओवेसी पीस पार्टी के अध्यक्ष डॉ. अय्यूब के साथ गठबंधन के लिए सहमत हो गए हैं। इसकी अधिकारिक घोषणा जल्दी ही हो सकती है।

पीस पार्टी के सूत्रों के मुताबिक डॉ अय्यूब एआईएमआईएम के गठबंधन के लिए हैदराबाद गये थे। जहां एक फार्मूले के तहत दोनों पार्टी साथ चुनाव लड़ेगी। जिन सीटों पर औवेसी अपने उम्मीदवार खड़े करेंगे वहां अय्यूब के उम्मीदवार खड़े नहीं होंगे। दोनों ही नेता एक दूसरे की चुनावी सभाओं में शरीक होंगे।

पीस पार्टी से गंठबंधन की संभावना पर एमआईएमआईएम के प्रदेश अध्यक्ष शौकत अली ने भी इंकार नहीं किया है।  हालांकि इन दोनों ही पार्टियों की नजर सपा के मुस्लिम वोटरों पर है। मुस्लिम वोटरों को अपने साथ लाने के लिए उन्होंने इसपर रणनीति भी बनाना शुरु कर दिया है।

 

डॉ. अयूब की पीस पार्टी भी पीस पार्टी ने पिछले विधानसभा चुनावों में चार सीटों पर कब्जा जमाया था। वहीं एमआईएमआईएम के लिए यूपी में डेब्यू करने जा रही है।

एआईएमआईएम के कन्वीनर शौकत के मुताबिक उनकी पार्टी यूपी में अब तक 108 रैलियां कर चुकी है और दिसंबर तक 100 रैलियां और होंगी। उन्होंने कहा कि इन रैलियों के जरिए सपा का भेद खोला जा रहा है। शौकत ने आरोप लगाया कि पिछले विधानसभा चुुनाव में सपा ने मुस्लिमों से कई वादे किए थे, लेकिन उन्हें पूरा नहीं किया गया।
उन्होंने कहा कि एआईएमआईएम निमेष कमीशन की रिपोर्ट, दंगों और कानून और व्यवस्था का मुद्दा उठाएगी। शौकत का कहना है कि मुसलमानों को सपा सिर्फ मूर्ख बना रही है। अपने संगठन के बारे में उनका कहना है कि 40 जिलों में संगठन है। 20 जिोलं में बूथ स्तर पर संगठन बन चुका है। 66 जिलों मे सदस्य बनाए जा रहे हैं। शौकत ने दावा किया कि एआईएमआईएम से अब तक 10 लाख से ज्यादा लोग जुड़ चुके हैं।
 वहीं, डॉ. अयूब की पीस पार्टी भी सपा के खिलाफ मोर्चा खोलने जा रही है। पीस पार्टी ने पिछले विधानसभा चुनावों में चार सीटों पर कब्जा जमाया था। उसके राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. अयूब का भी कहना है कि सपा ने मुस्लिमों को धोखा दिया और उनकी पार्टी सौ रैलियां कर मुस्लिमों की आंखें खोलेगी। पार्टी ने हर 10 दिन में एक रैली करने का फैसला किया है। रैलियां करने का जिम्मा उनके बेटे इरफान ने संभाला है।
इसके लिए इरफान ने अपना ठिकाना मुरादाबाद में बनाया है। उन्होंने कहा कि सपा ने रंगनाथ मिश्र आयोग की रिपोर्ट लागू करने की बात कही थी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। डॉ. अयूब कहना है  पश्चिमी यूपी के मुसलमान सपा से नाराज है इसलिए पीस पार्टी वहां भी अपनी उम्मीदवार उतारेगी।
TOPPOPULARRECENT