सभी धर्मों के लोगों ने मिलकर बनाया रामसीता मंदिर, पेश की सांप्रदायिक सद्भाव की मिसाल

सभी धर्मों के लोगों ने मिलकर बनाया रामसीता मंदिर,  पेश की सांप्रदायिक सद्भाव की मिसाल
सांकेतिक तस्वीर

सांप्रदायिक सद्भाव की मिसाल पेश करते हुए पश्चिम बंगाल के बर्दवान जिले के एक गांव में सभी धर्मों के लोगों ने मिलकर रामसीता का मंदिर बनवाया. हालांकि मंदिर का निर्माण लगभग पूरा हो चुका है. ऐसी स्थिति में टीएमसी इस मंदिर का उद्घाटन करने की योजना बना रही है.

मंदिर निर्माण के लिए मुस्लिम, सिख, ईसाई सहित सभी धर्मों के लोगों ने सहयोग किया है. कुछ लोगों ने कैश देकर तो कुछ लोगों ने मंदिर निर्माण के लिए सामान देकर अपना सहयोग दिया. हरिपुर पंचायत के प्रधान निर्मला मुर्मु ने कहा, ‘इसकी योजना दिसंबर 2018 में ही बना ली गई थी. सभी समुदाय के लोग खुश हैं. हमारे पास मंदिर और मस्जिद हैं लेकिन रामसीता का कोई मंदिर नहीं है. इसलिए हमने सोचा कि राम सीता का मंदिर बनाया जाए.’


गांव के ही निवासी अहमद वारिस ने कहा, ‘गांव में आने वाले श्रद्धालुओं की सुविधा कि वजह से हमने ये मंदिर बनवाया. जब अयोध्या में तनाव की स्थिति थी तब भी इस इस गांव में अच्छा माहौल था.’

एक तरफ जहां बीजेपी ने कहा कि टीएमसी मंदिर के नाम पर जानबूझकर हिंदुत्व कार्ड खेल रही है, वहीं दूसरी ओर टीएमसी का कहना है कि टीएमसी राज्य में शांति बनाए रखने की कोशिश कर रही है. हाल के वर्षों में बीजेपी ने रामनवमी को रैली निकालना शुरू किया था. इस पर टीएमसी ने आरोप लगाया था कि बीजेपी माहौल खराब करने की कोशिश कर रही है. 2018 में राम नवमी के दौरान दोनों पार्टियों द्वारा लगाए गए आरोप-प्रत्यारोप के चलते आसनसोल सहित राज्य में कई जगह दंगे हो गए थे

साभार- न्यूज़ 18

Top Stories