Saturday , September 22 2018

समाज के कुछ वर्ग मुझसे डरे हुए हैं, इसका कारण यह है कि ये लोग मुझे ठीक से नहीं जानते : ट्रंप

वाशिंगटन : राष्ट्रपति चुनाव में अपनी जीत के बाद मुस्लिमों, अफ्रीकी अमेरिकियों और लातिनों के उत्पीड़न की खबरों से दुखी डोनाल्ड ट्रंप ने पहली बार सार्वजनिक रूप से लोगों से ‘‘इसे रोकने’ के लिए कहा. सीबीएस के ‘60 मिनट’ में कल ट्रंप ने कहा, ‘‘मैं यह सुनकर बहुत दुखी हूं और मैं इसे रोकने के लिए कहता हूं. इसे रोकें.’ वह हाल के दिनों में मुस्लिमों, हिस्पैनिक अमेरिकियों, अश्वेत लोगों, अल्पसंख्यकों के खिलाफ हो रहे कथित घृणा अपराधों को लेकर पूछे गये एक सवाल पर अपनी प्रतिक्रिया दे रहे थे.
ट्रंप से पूछा गया, ‘‘क्या आप उन लोगों से कुछ कहना चाहते हैं?’ उन्होंने कहा, ‘‘मैं कहना चाहता हूं कि ऐसा ना करें. यह भयानक है. मैं इस देश को एकजुट करने जा रहा हूं. ‘ राष्ट्रपति पद के लिए निर्वाचित हुए ट्रंप ने कहा कि समाज के कुछ वर्ग उन्हें लेकर डरे हुए हैं और इसका कारण यह है कि ये लोग उन्हें ठीक से नहीं जानते हैं. ट्रंप ने उन लोगों से कहा कि वे डरें नहीं. उनसे पूछा गया, ‘‘लोगों के प्रदर्शन को लेकर आपको क्या लगता है.’ उन्होंने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि कुछ मामलों में, प्रदर्शनकारी पेशेवर होते हैं.’ ट्रंप ने कहा, ‘‘अगर हिलेरी जीतीं होतीं और मेरे लोग बाहर प्रदर्शन करते तो हर कोई कहता, ‘ओह, यह खराब चीज है.’ यह बहुत अलग दृष्टिकोण होता. आप जानते हैं कि यहां दोहरा मानक है.’

ओबामा प्रशासन नाउरु एवं पापुआ न्यू गिनी जैसे द्वीप देशों में ऑस्ट्रेलिया के खर्च पर 1,300 शरणार्थी शिविरों में रह रहे इन शरणार्थियों के पुनर्वास पर सहमत था. चिकित्सकीय उपचार के लिए ऑस्ट्रेलिया आने वाले और वापस द्वीपों पर लौटने से इनकार करने वाले ऐसे 370 अन्य भी इसके योग्य हैं. ट्रंप ने मुस्लिम प्रवासियों पर रोक या सख्त प्रतिबंध का आह्वान किया है और अधिकतर शरणार्थी पश्चिम एशिया, अफ्रीका और एशिया से आए मुस्लिम हैं.

TOPPOPULARRECENT