Wednesday , June 20 2018

सरकारी असकीमात की ऑडिट कराने से इत्तिफ़ाक़

नई दिल्ली, 06 नवंबर (यू एन आई) देही तरक़्क़ी , साफ़ पानी और सफ़ाई सुथराई के वज़ीर जय राम रमेश ने सी ऐंड ए जी के साथ जामि सलाह-ओ-मश्वरे के बाद यहां कहा कि मर्कज़ और रियास्तों में दोनों वज़ारतों की स्कीमों के अख़राजात का ऑडिट कमपटरोल ऐंड आडीट

नई दिल्ली, 06 नवंबर (यू एन आई) देही तरक़्क़ी , साफ़ पानी और सफ़ाई सुथराई के वज़ीर जय राम रमेश ने सी ऐंड ए जी के साथ जामि सलाह-ओ-मश्वरे के बाद यहां कहा कि मर्कज़ और रियास्तों में दोनों वज़ारतों की स्कीमों के अख़राजात का ऑडिट कमपटरोल ऐंड आडीटर जनरल के ज़रीया कराने पर इत्तिफ़ाक़ हुआ है।

उन्होंने कहा कि इस मंसूबा अमल से मर्कज़ी हुकूमत के तमाम देही तरक़्क़ीयाती प्रोग्रामों के सरकारी अख़राजात की जवाबदेही बढ़ेगी। साल 12।011 के दौरान दोनों वज़ारतों की मुख़्तलिफ़ स्कीमों पर मर्कज़ी हुकूमत के ज़रीया किए जाने वाला ख़र्च तक़रीबन 100000 करोड़ रुपय है। जिस का नंबर तादाद के एतबार से दिफ़ा पर किए जाने वाले ख़र्च के बाद आता है।

मर्कज़ी हुकूमत की जानिब से मुल़्क की रियास्तों में कई असकीमात रूबा अमल लाए जा रहे हैं जिन पर अमल आवरी और अख़राजात से मुताल्लिक़ ऑडिट का मसला पैदा हुआ है।

TOPPOPULARRECENT