Thursday , April 26 2018

सरकारी आयोजन ‘जश्न-ए-उर्दू” मुशायरे में शायरा ने एक शेर के जरिये बाबरी विध्वंस को दिया शहादत का दर्जा

भोपाल : राजधानी के रवीन्द्र भवन परिसर में चले तीन दिनी सरकारी आयोजन ‘जश्न-ए-उर्दू” मुशायरे में एक शायरा ने बाबरी विध्वंस को शहादत का दर्जा देते हुए एक शेर के जरिए इसका जिक्र किया। मप्र संस्कृति विभाग के उर्दू अकादमी द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में मुनव्वर राना, वसीम बरेलवी, डॉ. तरन्नुम रियाज, तनवीर गाजी और मुमताज सिद्दिकी जैसे नामचीन शायर भी शामिल हुए।

8 से10 दिसंबर तक चले इस मुशायरे में बड़ी संख्या में राजधानी के गणमान्य नागरिक और शासकीय अधिकारी-कर्मचारी मौजूद थे। कार्यक्रम के दूसरे दिन शनिवार को गजल पढ़ते हुए शायरा डॉ. परवीन कैफ बोलीं ‘शहादत बाबरी मस्जिद की जब भी याद आती है फरोगे गम में सब हंसना-हंसाना भूल जाती हूं।” गजल में और भी शेर थे, लेकिन बाबरी शहादत को लेकर वह अपनी बात पर अडिग रहीं।
इंसानियत के साथ धोखा…

एक चर्चा में भी डॉ. कैफ ने इस मुद्दे पर खुलकर अपनी बात रखी। जब उनसे पूछा गया कि शायर-कलाकार तो अमूमन सियासत और मजहब से ऊपर उठकर इंसानियत की बात करता है? इस पर उनका जवाब था कि इंसानियत के साथ धोखा हुआ। कार्यक्रम में तनवीर गाजी भी मौजूद थे जो कि अपनी शायरी में मोदी सरकार और गुजरात को निशाने पर रखने के लिए जाने जाते हैं।

कार्यक्रम में मौजूद एक अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि उर्दू तो मोहब्बत की जुबान है। बाबरी मस्जिद को लेकर जब शेर पढ़ा जा रहा था, तब आयोजकों को टोकना चाहिए था। ऐसा नहीं होना चाहिए, उन्होंने कहा कि सवाल तो उप्र विधान परिषद सदस्य वसीम बरेलवी और मुनव्वर राणा को लेकर भी उठना चाहिए।

आश्चर्य तो यह है कि संस्कृति विभाग ‘संस्कृत” का पर्व तो मनाता नहीं, जश्न-ए-उर्दू में बाबरी का विलाप करने वालों को बुलाकर क्या संदेश देना चाहता है। भारतीय संस्कृति को संप्रदाय विशेष की तरफ इंगित कराना उचित नहीं – रघुनंदन शर्मा, पूर्व सांसद एवं वरिष्ठ भाजपा नेता

‘जश्न-ए-उर्दू” कार्यक्रम में उर्दू अकादमी के बायलॉज का खुलकर उल्लंघन हुआ। मप्र के कलाकार-साहित्यकारों को तवज्जो नहीं दी गई। कार्यक्रम में शाहवर अली और फौजिया अरसी जैसे नए कलाकार ‘स्क्रिप्ट” पर व्याख्यान दे रहे थे और फिल्म-थियेटर के प्रख्यात कलाकार राजीव वर्मा, रीता भादुड़ी और भरतनाट्यम नृत्यांगना लता मुंशी जैसे कलाकार दर्शक दीर्घा में मौजूद थे – डॉ. युनूस फरहत, शायर

इस पर मैं कोई प्रतिक्रिया नहीं दे सकता, क्योंकि मैं कार्यक्रम में देर से पहुंचा था। इसलिए मैंने कुछ सुना नहीं – मुनव्वर राना, शायर

मुशायरे के जिस शेर की आप बात कर रहे हैं उसे हम शायरी नहीं मानते। हम तो मुशायरे में आने वालों को पहले ही बोल देते हैं कि सियासी और सद्भावना खराब करने वाली शायरी न करें – नुसरत मेहदी, सचिव, मप्र उर्दू अकादमी

TOPPOPULARRECENT