Tuesday , December 12 2017

सरकारी मह्कमाजात में एयरकंडीशनरस के इस्तिमाल में कमी हिदायत

हैदराबाद,21 जनवरी: (एन ऐस ऐस एजैंसीज़)। आंधरा प्रदेश तवानाई के मूसिर इस्तिमाल और बचत से मुताल्लिक़ इदारा ऐस ई सी ऐम के इक़दामात से बरामद शूदा बेहतर नताइज से हौसला पा कर रियास्ती हुकूमत ने मुख़्तलिफ़ सरकारी मह्कमाजात में बर्क़ी के मूसिर

हैदराबाद,21 जनवरी: (एन ऐस ऐस एजैंसीज़)। आंधरा प्रदेश तवानाई के मूसिर इस्तिमाल और बचत से मुताल्लिक़ इदारा ऐस ई सी ऐम के इक़दामात से बरामद शूदा बेहतर नताइज से हौसला पा कर रियास्ती हुकूमत ने मुख़्तलिफ़ सरकारी मह्कमाजात में बर्क़ी के मूसिर इस्तेमाल और बर्क़ी की बचत के इक़दामात पर सख़्ती के साथ अमल आवरी के साथ मूसिर राबिता की हिक्मत-ए-अमली के दोहरे हदफ़ का ताय्युन किया है।

जिस से तवक़्क़ो है कि सालाना 15000 करोड़ यूनिट (तक़रीबन 1500 मेगा यूनिट) बर्क़ी की बचत होगी। बर्क़ी की काबुल लिहाज़ बचत को यक़ीनी बनाने के लिए इदारा ऐस ई सी ऐम की तरफ़ से तजवीज़ करदा इक़दामात पर सख़्ती के साथ अमल आवरी और दीगर इक़दामात पर तबादला-ए-ख़्याल के लिए 22 जनवरी को सहपहर 3 बजे सकरीटरीट में एक अहम इजलास मुनाक़िद होगा जिस में रियास्ती चीफ़ सेक्यूरिटी मनी मैथीयू और सदर नशीन ऐस ई सी ऐम भी शिरकत करेंगे।

मुख़्तलिफ़ मह्कमाजात के परिन्सिपाल सेक्रिट्रीज़‌ बिशमोल ऐम साहू (तवानाई) बी साम बाब (बलदी नज़म-ओ-नसक़-ओ-शहरी तरक़्क़ियात) अनील सी यूनीत (ज़राअत) प्रदीप चंद्रा ( सनअतें ) वे नागी रेड्डी (पंचायत राज) हीरालाल समारिया सी एम डी / ए पी ट्रांस्को वे अनील कुमार एम डी (ए पी सी पी डी सी ईल) एमटी कृष्णा बाबू कमिश्नर (जी ऐच एमसी) नीरब कुमार प्रसाद (मीटरोपोलटीन कमिश्नर ) के अलावा सी आई आई फ़यापस और दीगर इदारों के नुमाइंदगान भी शिरकत करेंगे। और बर्क़ी की बचत के लिए अपनी तजावीज़ पेश करेंगे।

चीफ़ सेक्युरिटी मनी मैथीयू ने हाल ही में सरकारी मह्कमाजात में बर्क़ी के मूसिर इस्तिमाल और किफ़ायत शिआरी के मुख़्तलिफ़ तरीक़ों का जायज़ा लिया था। इस इजलास में परिनसिपाल सेक्युरिटी पोलटीकल (जी ए डी) इन शिव शंकर मोनंदरा स्पेशल सेक्युरिटी तवानाई वे ई ओ ऐस ई सी कट और दूसरे भी शरीक थे।

इस मौक़े पर चीफ़ सेक्युरिटी ने ग़ैर मुस्तहिक़ आफ़िसरान को हिदायत की कि वो आइन्दा मौसम गर्मा के दौरान अपने चैंबर्स में एयरकंडीशन‌डस का इस्तिमाल ना करें बल्कि बर्क़ी पंखे और एयर कूलर्स का इस्तिमाल किया जाये। अलावा अज़ीं आली ओहदेदारों को भी हिदायत की गई है कि कम से कम दर्जा हरारत 24 डिग्री सेल्स या इस से ज़ाइद होने की सूरत में एयरकंडीशनरस इस्तिमाल किए जाएं। इस तरह तमाम सरकारी दफ़ातिर में एरकनडीशनर्स के इस्तिमाल को मुम्किना हद तक कम से कम किया जाये। एयरकंडीशनर्स के मुक़ाबले बर्क़ी पंखों और एयर कूलर्स के इस्तिमाल में बर्क़ी की काफ़ी बचत होती है।

जिस का एक तक़ाबुली तख़्ता तैयार किया गया है। आइन्दा मौसम-ए-गर्मा में रियासत को दरपेश बर्क़ी की शदीद क़िल्लत से निटमटने के लिए ना सिर्फ़ पैदावार में इज़ाफे की कोशिश की जा रही है बल्कि पड़ोसी रियास्तों से बर्क़ी ख़रीदने के लिए भी इक़दामात किए जा रहे हैं। लेकिन सब से ज़्यादा बर्क़ी के इस्तिमाल में किफ़ायत को आम करने की ज़रूरत पर ज़ोर दिया जा रहा है। इस सूरत-ए-हाल के पेशे नज़र अंदेशा ज़ाहिर किया गया है कि आम घरेलू सारिफ़ीन को भी मौसम-ए-गर्मा के दौरान दिन और रात के औक़ात कैई घंटों तक बर्क़ी कटौती का सामना रहेगा।

TOPPOPULARRECENT