Saturday , August 18 2018

सरकारी मुलाज़मीन को गिरानी अलाउंस की इजराई का मुतालेबा

स्टेट उर्दू टीचर्स एसोसी एष्ण आंध्र प्रदेश (सोटा ) के क़ाइदीन मुहम्मद अनवर अलबाक़ी , मुहम्मद अबदुलनेइम , मुहम्मद अबदुलजब्बार अफ़रोज़ , साजिद मुही उद्दीन ,नूर उद्दीन कादरी , मुहम्मद सिद्दीक़ अहमद , मुहम्मद यूसुफ़ , माजिद रेहान , मुहम्मद ख़

स्टेट उर्दू टीचर्स एसोसी एष्ण आंध्र प्रदेश (सोटा ) के क़ाइदीन मुहम्मद अनवर अलबाक़ी , मुहम्मद अबदुलनेइम , मुहम्मद अबदुलजब्बार अफ़रोज़ , साजिद मुही उद्दीन ,नूर उद्दीन कादरी , मुहम्मद सिद्दीक़ अहमद , मुहम्मद यूसुफ़ , माजिद रेहान , मुहम्मद ख़्वाजा मोईन उद्दीन , मुहम्मद अबदुलक़दीर सिद्दीकी और ख़्वाजा फ़ारूक़ उद्दीन वहाज ने अपने एक मुशतर्का बयान में कहा है के मर्कज़ी हुकूमत की तरफ से मर्कज़ी सरकारी मुलाज़मीन को जुलाई से अदा शदणी गिरानी अलाउंस की इजराई अमल में आचुकी है ।

और रियासती हुकूमत सरकारी मुलाज़मीन के गिरानी अलाउंस की इजराई में ताख़ीर कररही है । जिस की वजह से मुलाज़मीन मआशी मसाएल का शिकार होचुके हैं और एशिया ज़रुरीया की कीमतों में बेतहाशा इज़ाफ़ा होचुका है ।

और साथ ही दसवीं पै कमीशन का क़ियाम भी ज़रूरी है । लिहाज़ा अर्बाब मजाज़ वज़ीर आली आंध्र प्रदेश से मुतालेबा किया जाता है कि फ़ौरी गिरानी अलाउंस की इजराई और दसवीं पै कमीशन के क़ियाम केलिए अहकामात जारी करें ।

TOPPOPULARRECENT