Saturday , September 22 2018

सरकार से बाहर होने के बाद माणिक और उनकी पत्नी सीपीएम कार्यालय में रह रहे हैं

त्रिपुरा : माणिक गवर्नमेंट की छवि राष्ट्र के सबसे गरीब CM के तौर पर रही है. अपनी सैलेरी का ज्यादातर भाग वह पार्टी को समर्पित कर देते थे. गवर्नमेंट से बाहर जाने के बाद अब उनके पास अपना खुद का आवास तक नहीं है. त्रिपुरा चुनाव में वामपंथ की हार के बाद मुख्यमंत्री के आवास को खाली करने के बाद, मणिक सरकार अब अपनी पत्नी पांचाली भट्टाचार्य,सीपीएम के दफ्तर के ऊपर दो कमरों का जगह है जहां माणिक अपनी पत्नी संग रहेंगे.

माणिक की पत्नी केंद्रीय कर्मचारी हैं. माणिक ने अपना पैतृक आवास अपनी बहन को दान कर दिया था. माणिक की पत्नी का शहर में अचल संपत्ति का मालिक है लेकिन एक बिल्डर को सौंपे जाने के बाद अभी वह विवाद में है। भवन का निर्माण अभी तक पूरा नहीं हुआ है।त्रिपुरा सीपीएम के सेक्रेटरी ने बताया कि पार्टी के दफ्तर के ऊपर बनाए गए फ्लैट में न्यूनतम जरूरतों के सभी सामान मौजूद हैं. माणिक की तरह हमारे ज्यादातर नेता सादा ज़िंदगी जीते हैं. उन्होंने बताया कि माणिक पहले भी पार्टी दफ्तर में रह चुके हैं. त्रिपुरा के कुछ पूर्व मंत्री विधायक आवास में शिफ्ट हुए हैं. तो वहीं सीपीआईएम के तीन विधायक माणिक डे, नरेश जमातिया व मणेंद्र रिएंग अपने गांवों की तरफ लौट गए हैं.

माणिक गवर्नमेंट के पार्टी दफ्तर में रहने पर त्रिपुरा की कमान संभालने जा रहे बिप्लब देब ने बोला है कि माणिक गवर्नमेंट को सरकारी आवास व दूसरी सुविधाएं पाने का हक है. विपक्ष के नेता को कैबिनेट स्तर की सुविधाएं मिलती हैं. उनके लिए सारी सुविधाएं मुहैया कराई जाएंगी.

TOPPOPULARRECENT