Sunday , July 22 2018

सरफराज आलम के खून में हिन्दुस्तान बस्ता है, देश विरोधी नारे के पीछे नीतीश और उनके दोस्तों की साज़िश- तेजस्वी यादव

बिहार के अररिया उपचुनाव में राजद उम्मीदवार सरफराज आलम की जीत के जश्न में राष्ट्रविरोधी नारे लगाने का वीडियो वायरल हुआ। उसके बाद इसको लेकर सियासत शुरू हो गयी।

हालांकि, पुलिस ने इस मामले में दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया है, लेकिन तेजस्वी यादव ने इस मामले में हस्तक्षेप करते हुए सुशील मोदी और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर हमला बोला है।

तेजस्वी ने राजद के नवनिर्वाचित सांसद सरफराज आलम को लेकर भी बड़ा बयान दिया है। तेजस्वी ने इस मामले पर ट्वीट करते हुए लिखा है कि आपकी जानकारी के लिए बता दूं, अररिया के विजयी सांसद सरफराज आलम 25 दिन पहले नीतीश कुमार और सुशील मोदी की एनडीए के विधायक थे।

बाकी आप समझदार है। इनको दर्द यह है कि हमारे होते बिहार में अमन,शांति,भाईचारा और सद्भाव कैसे और क्यों है? इन्हें यही पीड़ा है।

आपकी जानकारी के लिए बता दूँ अररिया के विजयी सांसद सरफ़राज़ आलम 25 दिन पहले नीतीश कुमार और सुशील मोदी की NDA के विधायक थे।

बाक़ी आप समझदार है। इनको दर्द यह है कि हमारे होते बिहार में अमन,शांति,भाईचारा और सद्भाव कैसे और क्यों है? इन्हें यही पीड़ा है।

मीडिया के कुछ BJP समर्थित चैनलों ने चुनाव पूर्व BJP अध्यक्ष द्वारा ISI हब बनने संबंधित बयान पर कोई डिबेट नहीं? हमारे जीतने के बाद सुशील मोदी के सांप्रदायिक दृष्टिकोण पर चर्चा नहीं। गिरिराज सिंह के कट्टरपंथी टिप्पणी पर कोई चर्चा और बहस नहीं।

तेजस्वी ने आगे तंज कसते हुए लिखा है कि बिहारियों के खून में हिंदुस्तान बसता है। भारत विरोधी नारेबाजी बीजेपी और नीतीश कुमार के नागपुर वाले दोस्तों की साजिश हो सकती है।

जांच हो। बिलकुल जांच हो। दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा मिले। लेकिन फॉरेंसिक लैब की रिपोर्ट आये बिना कोई किसी नतीजे पर कैसे पहुंच सकता है?

तेजस्वी ने आगे लिखा है कि नीतीश कुमार के उत्तराधिकारी और करीबी सांसद आरसीपी सिंह की मौजूदगी में छपरा में शादी में सुशासन की धज्जियां उड़ाते हुए ताबड़तोड़ फ़ायरिंग की गई।

सत्ताधारी लोग खुलेआम ऐसी गोलीबाज़ी को प्रोत्साहित कर रहे है। नीतीश कुमार बताये क्या वो अपने उत्तराधिकारी पर कोई कार्रवाई करेंगे?

TOPPOPULARRECENT