सरबराह टी आर एस के चन्द्र शेखर राव को कांग्रेस हाईकमान ने दिल्ली तलब किया

सरबराह टी आर एस के चन्द्र शेखर राव को कांग्रेस हाईकमान ने दिल्ली तलब किया
अलैहदा तेलंगाना मसअले पर पर जारी नई दिल्ली में सरगर्म मुशावरत के दौरान कांग्रेस आला कमान ने टी आर एस के सरबराह चन्द्र शेखर राव को नई दिल्ली आने की दावत दी है । टी आर एस के सिनियर क़ाइदीन ने उन्हें मश्वरा दिया है कि वो पहले सूरत हाल क

अलैहदा तेलंगाना मसअले पर पर जारी नई दिल्ली में सरगर्म मुशावरत के दौरान कांग्रेस आला कमान ने टी आर एस के सरबराह चन्द्र शेखर राव को नई दिल्ली आने की दावत दी है । टी आर एस के सिनियर क़ाइदीन ने उन्हें मश्वरा दिया है कि वो पहले सूरत हाल का जायज़ा लें और अगर मर्कज़ का फैसला अलैहदा तेलंगाना के हक़ में नज़र आए तो उस वक़्त दिल्ली का रुख़ करने का फैसला करे।

बताया जाता है कि चन्द्र शेखर राव कांग्रेस हाईकमान के बाअज़ क़ाइदीन से रब्त में हैं और उन से मालूमात हासिल कर रहे हैं। के सी आर के करीबी ज़राए के मुताबिक़ मर्कज़ी हुकूमत अलैहदा रियासत की तशकील के बारे में क़तई फैसले पर पहुंच चुका है। ताहम हैदराबाद के मौक़फ़ को लेकर मुबाहिस जारी हैं।

सीमा आंध्र क़ाइदीन के दबाव को देखते हुए मर्कज़ी हुकूमत हैदराबाद को दोनों रियासतों का मुशतर्का दार-उल-हकूमत क़रार देने का मंसूबा रखती हैं ताकि सीमा आंध्र क़ाइदीन की जानिब से तेलंगाना की मुख़ालिफ़त को कम किया जा सके।

जिस तरह पंजाब और हरियाणा का दार-उल-हकूमत चन्दीगढ़ है, इसी तरह हैदराबाद को तेलंगाना और आंध्र रियासतों का दार-उल-हकूमत बनाने का मंसूबा है। ताहम टी आर एस और दीगर तेलंगाना हामी तनज़ीमें इस तजवीज़ को क़बूल करने तय्यार नहीं।

टी आर एस ने वाज़ेह करदिया कि वो आंध्र रियासत के लिए नए दार-उल-हकूमत के क़ियाम तक चंद बरसों के लिए हैदराबाद को मुशतर्का दार-उल-हकूमत के तौर पर इस्तिमाल की इजाज़त देने केलिए तय्यार है लेकिन मुस्तक़िल तौर पर उस की इजाज़त नहीं दी जा सकती। देखना ये है कि चन्द्र शेखर राव कांग्रेस आला कमान की दावत पर दिल्ली का दौरा करेंगे यह नहीं।

Top Stories