सरबराह हिज़्बुल-मुजाहिदीन के ख़िलाफ़ मुक़द्दमे का 21 सितम्बर को फ़ैसला

सरबराह हिज़्बुल-मुजाहिदीन के ख़िलाफ़ मुक़द्दमे का 21 सितम्बर को फ़ैसला
Click for full image

नई दिल्ली: दिल्ली की एक अदालत इमकान है कि 21सितंबर को हिज़्बुल-मुजाहिदीन के सरबराह सैयद सलाहुद्दीन पर फ़र्द-ए-जुर्म आइद करेगी। मुबय्यना तौर पर 80करोड़ रुपये मालिया हिन्दुस्तान में दहशतगर्द सरगर्मीयां करने के लिए पाकिस्तान से उसने हासिल किया था।

अदालत ने कहा कि अगर कोई वज़ाहत ज़रूरी हो तो एन आई ए और चारों मुल्ज़िमीन की जानिब से मुबाहिस के दौरान की जा सकती है और अदालत को वज़ाहत पेश की जा सकती है। इस के बाद ही अदालत 21सितम्बर को फ़र्द-ए-जुर्म के बारे में अपना फ़ैसला सुनाएगी। अब मुक़द्दमे में वज़ाहतें पेश करने का मौक़ा दिया गया है।

21सितंम्बर को किसी भी हुक्मनामा में तबदीली के लिए वज़ाहत पेश की जा सकती है। एन आई ए ने इस मुक़द्दमे में सलाहुद्दीन और दीगर 11के ख़िलाफ़ फ़र्द-ए-जुर्म आइद की थी उनमें से 8मुल्ज़िम पाकिस्तान में मुक़ीम हैं और उन्हें क़ब्लअज़ीं अदालत ने मफ़रूर मुजरिम क़रार दिया है।

फ़र्द-ए-जुर्म में उन के नाम भी शामिल हैं जिन्हें क़ानून-ए-ताज़ीराते हिंद की दफ़आत 120-B ( मुजरिमाना साज़िश ) 21-A ( मुमलिकत के ख़िलाफ़ कार्यवाईयों के इर्तिकाब की साज़िश ) के तहत फ़र्द-ए-जुर्म पेश की गई है।

Top Stories