Friday , December 15 2017

सरहदी इलाके बने डकैतों के सेफ जोन

मुजफ्फरपुर 13 मई : शहर के सरहदी इलाके डकैतों के लिए सेफ जोन बन गए हैं। इन इलाकों में डकैती की वाकियात हो रही हैं। यहां पुलिस गश्त नहीं लगाती है। डकैतों की गिरफ्तारी भी नहीं हो रही है। देहाती रतजगा करने के लिए मजबूर हैं। इलज़ाम है कि इ

मुजफ्फरपुर 13 मई : शहर के सरहदी इलाके डकैतों के लिए सेफ जोन बन गए हैं। इन इलाकों में डकैती की वाकियात हो रही हैं। यहां पुलिस गश्त नहीं लगाती है। डकैतों की गिरफ्तारी भी नहीं हो रही है। देहाती रतजगा करने के लिए मजबूर हैं। इलज़ाम है कि इलाके में पुलिस कभी कभार ही आती है। इस वज़ह से भी मुलजिमों के हौसले बुलंद हैं।

गुजिस्ता दिनों में सदर, करजा, अहियापुर, मनियारी, कांटी और मोतीपुर थाना इलाकों में दर्जन भर डकैती की वाकियात हो चुकी हैं। लेकिन ज़्यादातर मामलों में डकैतों को पुलिस नहीं पकड़ पाई है। पुलिस सिर्फ कागजी खानापूरी में सिमट कर रह गई है। इस बीच करजा डकैती में पुलिस दो मुश्तबा को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। करजा थाना इलाके में दो दिन पहले हुई डकैती से पहले गुजिस्ता महीने सदर थाना इलाका के फकीरा चौक और डुमरी पकड़ी इलाके में शदीद डकैती हुई थी। मुखालिफत करने पर फकीरा चौक वाक़ेय पताही लहलादपुर के सौरभ कुमार को गोली मारकर और चाकू घोंप कर क़त्ल कर दी थी। पुलिस अभी तक डकैतों को नहीं पकड़ पाई है।

TOPPOPULARRECENT