Sunday , December 17 2017

सर्वे में हिस्सा लेने अवाम में ज़बरदस्त जोश-ओ-ख़ुरोश

अपोज़िशन की शदीद मुख़ालिफ़त के बावजूद सर्वे कामयाब , हरीश राव‌ का रद्द-ए-अमल

अपोज़िशन की शदीद मुख़ालिफ़त के बावजूद सर्वे कामयाब , हरीश राव‌ का रद्द-ए-अमल

वज़ीर आबपाशी हरीश राव‌ ने कहा कि अपोज़िशन जमातों की जानिब से तेलंगाना हुकूमत के जामि समाजी सर्वे के ख़िलाफ़ मुहिम के बावजूद सर्वे में हिस्सा लेने के लिए अवाम में ज़बरदस्त जोश-ओ-ख़रोश देखा गया है। हरीश राव‌ ने आज अख़बारी नुमाइंदों से बातचीत करते हुए कहा कि सर्वे के मौक़े पर ना सिर्फ़ हैदराबाद बल्कि अज़ला में अवाम के दरमियान तहवार का माहौल देखा गया और लोग सर्वे में शामिल ओहदेदारों का बेचैनी से इंतेज़ार करते देखे गए।

हरीश राव‌ ने आज अपने अरकान ख़ानदान के साथ मैदक ज़िला के सदी पैन में सर्वे में हिस्सा लिया और ओहदेदारों को अपने अफ़रादे ख़ानदान के बारे में तफ़सिलात फ़राहम की। उन्होंने सदी पेन के अलावा ज़िला के दीगर इलाक़ों का दौरा करते हुए सर्वे के काम का जायज़ा लिया और ओहदेदारों से मालूमात हासिल की।

उन्होंने कहा कि टी आर एस करप्शन और बे क़ाईदगियों से पाक नज़म-ओ-नसक़ की फ़राहमी का अह्द करचुकी है और इस के लिए वो अपोज़िशन की तन्क़ीदों की परवाह किए बगै़र अपनी कारकर्दगी जारी रखेगी। उन्होंने कहा कि चन्द्र शेखर राव‌ की ज़ेरे क़ियादत हुकूमत किसी से ख़ौफ़ज़दा नहीं होगी और अवाम से जो वाअदे किए गए हैं उनकी तकमील के लिए हर मुम्किन इक़दामात किए जाऐंगे।

जामे समाजी सर्वे की मुकम्मल ताईद करते हुए हरीश राव‌ ने कहा कि ये सर्वे दरअसल अवाम के मुफ़ाद में है और इस से फ़लाही स्कीमात पर अमल आवरी में ना सिर्फ़ हुकूमत को मदद मिलेगी बल्कि उसे हक़ीक़ी मुस्तहक़्क़ीन के इंतेख़ाब में सहूलत होगी। हरीश राव‌ ने सर्वे के व‌सिलसिले में अपोज़िशन की जानिब से हुकूमत पर की जा रही तन्क़ीदों को ये कहते हुए मुस्तरद कर दिया कि अपोज़िशन जमातें ग़रीब अवाम की भलाई नहीं चाहतीं।

उन्होंने कहा कि इस सर्वे की बुनियाद पर हुकूमत मुस्तहिक़ अफ़राद के लिए मुख़्तलिफ़ नई स्कीमात का आग़ाज़ करसकती है। उन्होंने कहा कि अवाम में सर्वे से मुताल्लिक़ दिलचस्पी का ये आलम था कि 10अज़ला में लोग अपने घरों पर मौजूद रहे और तमाम दीगर सरगर्मीयों को तर्क करते हुए सर्वे में हिस्सा लिया और उसे कामयाब बनाया।

सर्वे की कामयाबी का दावा करते हुए हरीश राव‌ ने कहा कि इस सर्वे की बुनियाद पर ही फ़लाही स्कीमात मुदव्वन की जाएंगी। उन्हों ने सर्वे की कामयाबी के लिए अवाम और ओहदेदारों से इज़हार-ए-तशक्कुर किया।उन्होंने कहा कि सर्वे के सिलसिले में तिजारती इदारों ने अपनी सरगर्मीयां बंद करते हुए हुकूमत से तआवुन किया है जिस के लिए वो इज़हार-ए-तशक्कुर करते हैं।

हरीश राव‌ ने कहा कि सर्वे के दौरान दार-उल-हकूमत हैदराबाद की सड़कें सुनसान नज़र आरही थीं और अवाम हर जगह सर्वे के काम में मसरूफ़ देखे गए। हरीश राव‌ ने कहा कि उन की हुकूमत सिर्फ़ बातें और ऐलानात नहीं करती बल्कि उन पर अमल आवरी पर यक़ीन रखती है।

उन्होंने कहा कि टी आर ऐस हुकूमत का हर इक़दाम शफ़्फ़ाफ़ियत पर मबनी होगा। मुल्क की किसी भी रियासत में मार्किट कमेटी सदर नशीन के ओहदों में दलितों को तहफ़्फुज़ात फ़राहम नहीं किए गए लेकिन तेलंगाना हुकूमत ने 22फ़ीसद तहफ़्फुज़ात की फ़राहमी का ऐलान करते हुए कारनामा अंजाम दिया है।

उन्होंने कहा कि इस से मार्किट कमेटी के ओहदों पर दलितों की नुमाइंदगी में इज़ाफ़ा होगा। हरीश राव‌ ने कहा कि अपोज़िशन जमातों को ये ख़ौफ़ लाहक़ होचुका है कि सरकारी स्कीमात पर अमल आवरी की सूरत में इन का सियासी मुस्तक़बिल तारीक होजाएगा। उन्हों ने अपोज़िशन को मश्वरा दिया कि वो हुकूमत को तामीरी तजावीज़ पेश करने के साथ साथ हुकूमत के अच्छे कामों की सताइश करें।

उन्हों ने कहा कि अपोज़िशन जमातों को हुकूमत के फ़लाही-ओ-तरक़्क़ीयाती कामों में शाना बह शाना शामिल होना चाहिए क्योंकि नई रियासत तेलंगाना की हमा जहती तरक़्क़ी सिर्फ़ टी आर एस नहीं बल्कि हर शख़्स की ज़िम्मेदारी है।

TOPPOPULARRECENT