Friday , January 19 2018

सविता की मौत के मुक़दमें पर वज़ीर-ए-ख़ारजा की गह‌री नज़र

वज़ीर-ए-ख़ारजा सलमान ख़ुरशीद हिंदूस्तानी ख़ातून सविता आयरलैंड श्वेता की मौत के मुक़दमे में होने वाली तबदीलियों पर गह‌री नज़र रखे हुए हैं । मुबय्यना तौर पर उस का डाक्टरों ने इसक़ात-ए-हमल करने से इनकार कर दिया था, हालाँकि वो हमल साक़ित

वज़ीर-ए-ख़ारजा सलमान ख़ुरशीद हिंदूस्तानी ख़ातून सविता आयरलैंड श्वेता की मौत के मुक़दमे में होने वाली तबदीलियों पर गह‌री नज़र रखे हुए हैं । मुबय्यना तौर पर उस का डाक्टरों ने इसक़ात-ए-हमल करने से इनकार कर दिया था, हालाँकि वो हमल साक़ित होने की मरीज़ा थी ।

इस बात की इत्तेला इसके शौहर प्रवीण हालपनावार को दी जा चुकी थी। वज़ारत-ए-ख़ारजा के ज़राए के बमूजब हिंदूस्तानी सफ़ीर बराए डबलिन ने एयरलैंड के नायब वज़ीर-ए-आज़म और वज़ीर-ए-ख़ारजा ईमान गुलम से मुलाक़ात की । वज़ारत-ए-ख़ारजा के एक सीनीयर ओहदेदार ने प्रावीन हालपनावार से रब्त पैदा किया।

उन्होंने कहा कि हकूमत-ए-हिन्द अपना पयाम ताज़ियत और गहरे अफ़सोस का इज़हार उसकी बीवी सविता के इंतिक़ाल पर करचुकी है और उन्हें डबलिन में ज़ेर-ए-बहिस तफ़सीलात से वाक़िफ़ करवा चुकी है । हिंदूस्तान और आयरलैंड के ओहदेदारों के दरमयान बात की तफ़सीलात से भी उन्हें वाक़िफ़ करवा दिया गया है ।

उन्हें तीक़न दिया गया है कि वज़ीर-ए-ख़ारजा सलमान ख़ुरशीद इस मुक़द्दमे में होने वाली तबदीलीयों पर गह‌री नज़र रखे हुए हैं और हिंदूस्तानी सिफ़ारतख़ाना बराए डबलिन को वज़ीर-ए-ख़ारजा ने हिदायत दी है कि बाक़ायदगी से तबदीलीयों के बारे में उन्हें इत्तिला फ़राहम की जाये ।

ज़राए के बमूजब वज़ीर-ए-ख़ारजा ने हर मुम्किन मदद फ़राहम करने का तीक़न दिया है । 31 सविता जो एक डेंटिस्ट थी आयरलैंड में ख़ून में समेत पैदा होने की वजह से फ़ौत होगई जबकि डाक्टरों ने मुबय्यना तौर पर इसका 17 हफ़्ते का हमल साक़ित करने से ये कहते हुए इनकार कर दिया था कि आयरलैंड एक कैथोलिक मुलक है।

वो तीन दिन तक दर्द और तकलीफ़ बर्दाश्त करने के बाद फ़ौत होगईं । हिंदूस्तान ने नई दिल्ली में आयरलैंड के सफ़ीर को जुमा के दिन तलब करते हुए स्वेता की मौत पर हिंदूस्तान की तशवीश और बर‌हमी से उन्हें वाक़िफ़ करवाया और उम्मीद ज़ाहिर की कि इस
मुक़दमे की आज़ादाना तहक़ीक़ात करवाई जाएगी ।

हज़ारों अफ़राद एस एल-मनाक मौत पर उलझन ज़दा होगए और उन्होंने पूरे आयरलैंड में जलूस और मशाल बर्दार जलूस निकालते हुए इस जाबिराना क़ानून में तरमीम का मुतालिबा किया ।

गयालवे और डबलिन में एहितजाजी जलूस में शिरकत करने वाले अफ़राद प्ले कार्ड और पोस्टर्स उठाए हुए थे जिन पर तहरीर था मज़ीद सानिहा नहीं । अलावा अज़ीं वो क़ानून में तबदीली का मुतालिबा करते हुए पुर ज़ोर नारे बुलंद कररहे थे ।

TOPPOPULARRECENT