सांप्रदायिकता और कट्टरता से लड़ने के लिए पाकिस्तान ने जारी किया मोबाइल ऐप्लिकेशन, लोग कर सकेंगे रिपोर्ट

सांप्रदायिकता और कट्टरता से लड़ने के लिए पाकिस्तान ने जारी किया मोबाइल ऐप्लिकेशन, लोग कर सकेंगे रिपोर्ट
Click for full image

पाकिस्तान की सरकार ने एक मोबाइल एप्लिकेशन लॉन्च किया है जिसके जरिए लोग नफरत भरे भाषणों की रिपोर्ट कर सकेंगे। सरकार इसके जरिए देश में चरमपंथ और सांप्रदायिकता का मुकाबला करना चाहती है।

यह ऐप एंड्रॉयड और आईओएस दोनों ऑपरेटिंग सिस्टम पर मौजूद है और इसका नाम रखा गया है चौकस। इसे पाकिस्तान की नेशनल काउंटर टेररिज्म अथॉरिटी यानी एनएसीटीए ने साइबर काउंटर टेररिज्म इनिशिएटिव के तहत लॉन्च किया है।

मोबाइल ऐप नागरिकों को बिना अपनी पहचान बताए चरमपंथी भाषणों, बैनरों और इस तरह की गतिविधियों की जानकारी दे सकेगा। ऐप इस्तेमाल करने वाले इसके माध्यम से तस्वीरें, ऑडियो, वीडिया या फिर लिखित संदेश भेज सकेंगे।

एनएसीटीए के प्रवक्ता मुजीबुर रहमान तालपुर ने समाचार एजेंसी डीपीए से कहा, “यह कदम समाज में चरमपंथ की प्रवृत्तियों को फैलने से रोकने के लिए उठाया गया है।”

सरकार ने नफरत वाले भाषणों की परिभाषा बहुत साफ तौर पर नहीं दी है। हालांकि तालपुर ने उदाहरण के लिए बताया कि ऐसी सामग्री, “जो अंतरधार्मिक सद्भाव में बाधा डाला, जो सांप्रदायिकता या चरमपंथी विचारों वाला हो या फि जो किसी धर्म के खिलाफ हो उसे नफरत वाला भाषण माना जाएगा।

पाकिस्तान के डॉन अखबार ने पिछले साल रिपोर्ट दी थी कि देश में प्रतिबंधित 64 चरमपंथी संगठनों में से 41, “किसी शख्स या समूह के यूजर प्रोफाइल के रूप में फेसबुक के सैकड़ों पन्नों में मौजूद थे।”

तालपुर का कहना है कि जो भी जानकारी या डाटा इसमें हासिल होगा उसकी जांच पुलिस, कानून का पालन कराने वाली और दूसरी नियामक एजेंसियां करेंगी।

इससे पहले जनवरी में भी सरकार ने एक ऐप्लिकेशन लॉन्च किया था जिसका नाम है सर्फसेफ। यहां नागरिक किसी भी ऐसी वेबसाइट की रिपोर्ट कर सकते हैं जो चरमपंथी सामग्री छापती हो या फिर जहां नफरत फैलाने वाले भाषण हों।

पाकिस्तान में चरमपंथी गतिविधियों को लेकर जब तब अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हो हल्ला मचता रहता है।

बीते महीनों में अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने खासतौर पर पाकिस्तान की बड़ी आलोचना की है और करोड़ों डॉलर की अमेरिकी सहायता भी रोक दी है। अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप पाकिस्तान पर कई और तरीकों से दबाव बनाने की कोशिश कर रहे हैं।

Top Stories