Monday , December 18 2017

साउथ एशीयन गेम्स फ़रवरी 2013 तक मुल्तवी कर दिये गये

नई दिल्ली १७ दिसम्बर: ( पी टी आई ) इंडियन ओलम्पिक एसोसीएसन् की जनरल बॉडी का आज इजलास मुनाक़िद हुआ जिस में जुनूबी एशियाई गेम्स को आइन्दा साल अक्टूबर की बजाय साल 2013 तक मुल्तवी कर दिया गया है इस के इलावा हाल ही में तशकील दी गई तमाम कमेटीयो

नई दिल्ली १७ दिसम्बर: ( पी टी आई ) इंडियन ओलम्पिक एसोसीएसन् की जनरल बॉडी का आज इजलास मुनाक़िद हुआ जिस में जुनूबी एशियाई गेम्स को आइन्दा साल अक्टूबर की बजाय साल 2013 तक मुल्तवी कर दिया गया है इस के इलावा हाल ही में तशकील दी गई तमाम कमेटीयों को तहलील करदिया गया है । आज मुनाक़िदा इजलास में ये बड़े फ़ैसले किए गए ।

जुनूबी एशियाई गेम्स अक्टूबर 2012 में मुनाक़िद होने वाले थे ताहम अब इन खेलों को फ़बरोरी 2013 तक मुल्तवी कर दिया गया है क्योंकि उस की कुछ तैय्यारीयां होनी बाक़ी हैं। जनरल बॉडी इजलास काफ़ी गर्मा गर्म रहा । इस के इलावा नए दस्तूर पर अमल आवरी को भी रो कदीने का फ़ैसला किया गया है क्योंकि इस नए दस्तूर में मौजूदा वोटिंग निज़ाम को बरख़ास्त करने की वकालत की गई है । इंडियन ओलम्पिक एसोसीएसन के एक आली ओहदेदार ने पेटी आह्य को बताया कि साउथ एशीयन गेम्स को इस लिए मुल्तवी
करना पड़ा क्योंकि ये गेम्स ओलम्पिक खेलों के सिर्फ दो माह बादहू रहे हैं और एथीलीटस इस में इतमीनान महसूस नहीं कर रहे थे ।

इस के इलावा हुकूमत दिल्ली ने भी एसोसीएसन को मतला किया कि माह अक्टूबर नवंबर के दौरान
अथीलीटस को क़ियाम की सहूलत फ़राहम करना आसान नहीं होगा । इन तमाम अवामिल को ज़हन में रखते हुए जनरल बॉडी ने गेम्स को फ़रवरी 2013 तक मुल्तवी कर देने का फ़ैसला किया है । जनरल बॉडी में ये भी वज़ाहत की गई कि एसोसीएसन के कारगुज़ार सदर मिस्टर वे के मल्होत्रा को गेम्स के इनइक़ाद में
हुकूमत दिल्ली और वज़ारत स्पोर्टस के साथ मिल कर काम करना चाहीए ।

ज़राए ने कहा कि एसोसीएसन को सिर्फ गेम्स के इनइक़ाद तक महिदूद रखने की ज़रूरत पर ज़ोर दिया गया । आज के इजलास में एसोसी उष्ण के नए दस्तूर को भी मंज़ूरी नहीं दी गई है । समझा जा रहा है कि ये सबकदोश होने वाले सैक्रेटरी जनरल रणधीर सिंह के ज़हन की इख़तिरा थी । इस बात का इत्तिफ़ाक़ राय से फ़ैसला किया गया कि नए दस्तूर का दुबारा जायज़ा लिया जाये। कुछ दफ़आत पर अज़ सर-ए-नौ ग़ौर करने एक कमेटी तशकील देने का भी फ़ैसला किया गया है खासतौर पर ये दफ़आत राय दही से मुताल्लिक़ हैं

TOPPOPULARRECENT