Thursday , January 18 2018

साझे बयान में पीएम मोदी और अबे बोले- मुंबई-पठानकोट हमलों के दोषियों को सजा दे पाक

भारत और जापान ने पाकिस्तान के आतंकी संगठनों जैश ए मोहम्मद और लश्कर ए तैयबा और अंतरराष्ट्रीय आतंकी समूह अलकायदा के खिलाफ आपसी सहयोग को मजबूत करने पर सहमति जताई है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और शिंजो आबे के बीच बृहस्पतिवार को शिखर सम्मेलन के बाद जारी संयुक्त बयान में आतंकवाद के खिलाफ ‘जीरो टॉलरेंस’ के नजरिए पर जोर दिया गया है और पाकिस्तान से कहा गया है कि वह 2008 के मुंबई और 2016 के पठानकोट आतंकी हमलों के दोषियों को जल्द से जल्द सजा दिलवाए।

दोनों नेताओं ने आतंकवाद और हिंसक अतिवाद के बढ़ते खतरे की जोरदार आलोचना करते हुए कहा है कि अपने हर रूप में आतंकवाद पूरी दुनिया के लिए एक अभिशाप बन चुका है। इससे निपटने के लिए वैश्विक स्तर पर पूरी ताकत के साथ लडऩा होगा और इसके लिए ‘जीरो टॉलरेंस’ की नीति अपनानी होगी। मोदी और आबे ने सभी देशों का आह्वान किया है कि वे आतंकियों की सुरक्षित पनाहगाहों, उनके नेटवर्क और वित्तीय स्रोतों को खत्म करने की दिशा में कदम बढ़ाएं।

साझा बयान में पाकिस्तान की ओर इशारा करते हुए कहा गया है कि आतंकवादियों की सीमा पार आवाजाही पर भी रोक लगाने की जरूरत है।

दोनों नेताओं ने कहा है कि वे आतंकवाद पर पांचवीं भारत-जापान बैठक में इस मुद्दे पर आगे चर्चा जारी रखेंगे ताकि अलकायदा, आईएसआईएस, जैश और लश्कर जैसे आतंकी संगठनों के खिलाफ सहयोग को और मजबूती प्रदान की जा सके। उन्होंने संयुक्त राष्ट्र के सदस्य देशों से कहा है कि वे संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव 1267 पर अमल करें ताकि आतंकी संगठनों को सूचीबद्ध किया जा सके।

 

TOPPOPULARRECENT