Wednesday , June 20 2018

साबिक़ कांस्टेबल अबदुलक़दीर की परोल मंज़ूर

हैदराबाद 12 जुलाई साबिक़ पुलिस हैड कांस्टेबल अबदुलक़दीर को 30 दिन की परोल मंज़ूर की गई है। हुकूमत तेलंगाना के महिकमा दाख़िला ने इस ज़िमन में एक सरकारी हुकमाना जारी कर दिया है।

हैदराबाद 12 जुलाई साबिक़ पुलिस हैड कांस्टेबल अबदुलक़दीर को 30 दिन की परोल मंज़ूर की गई है। हुकूमत तेलंगाना के महिकमा दाख़िला ने इस ज़िमन में एक सरकारी हुकमाना जारी कर दिया है।

अबदुलक़दीर की बीवी साबरा बेगम ने क़ब्लअज़ीं रियासती डिप्टी चीफ़ मिनिस्टर महमूद अली से दरख़ास्त की थी कि उनके शौहर के लिए परोल मंज़ूर करवाई जाये।

जिस पर महमूद अली ने रियासती वज़ीर-ए-दाख़िला एन नरसिम्हा रेड्डी से नुमाइंदगी की थी। बादअज़ां महिकमा दाख़िला ने अबदुलक़दीर के लिए एक माह की परोल मंज़ूर करने का फ़ैसला किया था।

अबदुलक़दीर की परोल जुमा की शाम मंज़ूर की गई। जिस के लिए उनके ख़ानदान को शाहअलीबंडा पुलिस में फी कस 3000 रुपये के दो मुचलके दाख़िल करना होगा। तवक़्क़ो हैके 24 साल से क़ैद साबिक़ कांस्टेबल की पीर को रिहाई अमल में आएगी।

1990 के फ़िर्कावाराना फ़सादाद के दौरान अस्सिटेंट कमिशनर पुलिस सत्य के क़त्ल के जुर्म में उन्हें सज़ाए क़ैद दी गई थी। अबदुलक़दीर डायबिटीज और दुसरे कई आरिज़ों में मुबतला होने के सबब गांधी हॉस्पिटल में ज़ेरे इलाज हैं।

2012 में डाक्टरों ने इन का एक मुतास्सिर पांव जिस्म से अलाहिदा कर दिया था। क्युंकि इस से जिस्म के दूसरे हिस्से मुतास्सिर हो रहे थे। रमज़ान उल-मुबारक के दौरान रिहाई की इत्तेला पर अबदुलक़दीर के ख़ानदान ने ख़ुशी का इज़हार किया है।

TOPPOPULARRECENT