Monday , April 23 2018

साबिक़ कांस्टेबल अबदुल क़दीर की रिहाई से हुकूमत का इनकार

हैदराबाद 24 जनवरी: रियास्ती हुकूमत ने माज़ूर साबिक़ पुलिस कांस्टेबल मुहम्मद अबदुल क़दीर की रिहाई की दरख़ास्त को मुस्तारिद कर दिया। प्रिंसिपल सेक्रेटरी होम श्रीमती छाया रतन की तरफ से कांस्टेबल की अहलिया साबरा बेगम को एक मकतूब भेजा

हैदराबाद 24 जनवरी: रियास्ती हुकूमत ने माज़ूर साबिक़ पुलिस कांस्टेबल मुहम्मद अबदुल क़दीर की रिहाई की दरख़ास्त को मुस्तारिद कर दिया। प्रिंसिपल सेक्रेटरी होम श्रीमती छाया रतन की तरफ से कांस्टेबल की अहलिया साबरा बेगम को एक मकतूब भेजा गया जिस में ये वाज़िह तौर पर कहा गया हीके मुहम्मद अबदुलक़दीर को रहा करने पर वो शहर में फ़िर्कावाराना फ़साद बरपा करसकते हैं।

मकतूब मौसूल होने और क़दीर की रिहाई पर हुकूमत का सख़्त मौक़िफ़ के बाद साबरा बेगम पर सकता तारी होगया है चूँके उन के शौहर पिछ्ले चंद अर्सा से अलील है और उन का पैर भी काट दिया गया है। लेकिन हुकूमत ने तिब्बी बुनियादों पर क़दीर को दो माह के लिए पेरोल पर रहा करने का फ़ैसला किया है और इस सिलसिले में अनक़रीब अहकामात जारी किए जाऐंगे।

वाज़िह रहे कि साबरा बेगम ने पिछ्ले साल आंध्र प्रदेश हाइकोर्ट में एडवोकेट श्रीमती पुष्पिंदर कौर की मदद से रिट दरख़ास्त दाख़िल करते हुए कांस्टेबल मुहम्मद अबदुलक़दीर की रिहाई की गुज़ारिश की थी। हाइकोर्ट ने अपने फ़ैसले में ये हिदायत दी थी कि साबरा बेगम हुकूमत से रास्त तौर पर रुजू होते हुए उन के शौहर की रिहाई तलब करे और हुकूमत को ये हुक्म दिया था कि वो कांस्टेबल की रिहाई से मुताल्लिक़ अपना मौक़िफ़ वाज़िह करे।

हाइकोर्ट की तरफ से मुक़र्ररा वक़्त गुज़रने के बावजूद भी हुकूमत साबरा बेगम को क़दीर की रिहाई से मुताल्लिक़ जवाब फ़राहम करने में टाल मटोल करती रही है। क़दीर जो पिछ्ले चंद अर्सा से अलील है और उन्हें गांधी हॉस्पिटल में ईलाज के लिए शरीक किया गया था जहां पर इन का पैर काट दिया गया। साबिक़ कांस्टेबल क़दीर पिछ्ले दो दहाईयों से जेल में क़ैद है और उन की सज़ा-ए-मुकम्मल होने के बावजूद भी हुकूमत उन्हें रहा करने से गुरेज़ कररही है।

हुकूमत ने साबरा बेगम को अपने जवाब में ये कहा हीका वो उन की दरख़ास्त रहम मुस्तारिद करते हुए रिहाई से इनकार कररही है जबके एडवोकेट पुष्पिंदर कौर ने इस सिलसिले में बताया कि हुकूमत का जवाब मुकम्मल तौर पर ग़लत है चूँके साबरा बेगम ने अपनी रिट दरख़ास्त में ना ही हुकूमत से की गई नुमाइंदगी में रहम की दरख़ास्त की है। उन्हों ने कहा कि हुकूमत के इस फ़ैसले के ख़िलाफ़ वो दुबारा हाइकोर्ट से रुजू होंगी।

TOPPOPULARRECENT