Monday , December 18 2017

साबिका सदर जम्हूरिया प्रतिभा पाटिल के भाई पर कत्ल का केस दर्ज

साबिका सदर जम्हूरिया प्रतिभा पाटिल के छोटे भाई गजेंद्रसिंह पाटिल को कांग्रेस के लीडर के कत्ल के मामले में मुल्ज़िम बनाया गया है। साल 2005 में मुंबई से करीब 400 किलोमीटर दूर में जलगांव में कांग्रेस लीडर प्रोफेसर वीजी पाटिल का कत्ल कर द

साबिका सदर जम्हूरिया प्रतिभा पाटिल के छोटे भाई गजेंद्रसिंह पाटिल को कांग्रेस के लीडर के कत्ल के मामले में मुल्ज़िम बनाया गया है। साल 2005 में मुंबई से करीब 400 किलोमीटर दूर में जलगांव में कांग्रेस लीडर प्रोफेसर वीजी पाटिल का कत्ल कर दिया गया था। इस मामले में गिरफ्तार दो मुल्ज़िमों ने गजेंद्र को इस कत्ल का मास्टर माइंड बताया है।

इस मामले की जांच सीबीआई कर रही है। विश्राम पाटील की बीवी शुरू से ही अपने शौहर के कत्ल के पीछे गजेंद्र पाटील को मुल्ज़िम रही हैं। विश्राम पाटील की बीवी इस कत्ल केस की गवाह भी हैं। शुरूआत में साबिका सदर जम्हूरिया प्रतिभा पाटील और यूपीए पर भी गजेंद्र पाटील को बचाने के इल्ज़ाम लगाए गए।

हालांकि बाद में सीबीआई ने अपनी जांच के दौरान कहा कि साबिका सदर जम्हूरिया प्रतिभा पाटील का इस केस से कोई ताल्लुक नहीं है। विश्राम पाटील की बीवी ने इस मामले में हाईकोर्ट से शिकायत भी की थी कि सीबीआई साबिका सदर ज्म्हूरिया और उनके भाई के खिलाफ ढिलाई बरत रही है।

उस वक्त सीबीआई ने 2008 में मुंबई हाईकोर्ट ने जो चार्जशीट दाखिल की थी, उसमें गजेंद्र पाटील का नाम नहीं था। सीबीआई की दलील थी कि गजेंद्र के खिलाफ इस मामले में कोई सबूत नहीं मिले। अब जलगांव की कोर्ट ने गजेंद्र पाटील को भी मामले में मुल्ज़िम बनाया है।

TOPPOPULARRECENT