सियासत में कुछ लो और कुछ दो का उसूल चलता है : मनमोहन सिंह

सियासत में कुछ लो और कुछ दो का उसूल चलता है : मनमोहन सिंह
कांग्रेस - एन सी पी के दरमयान रंजिशों का हल निकलता हुआ नज़र आ रहा है क्योंकि वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह की एन सी पी सरबराह शरद पवार से मुलाक़ात के इशारे मिल रहे हैं कि यू पी ए की कोआर्डीनेशन कमेटी तशकील दी जा सकती है । तनाज़ा ( झगड़ा) दरअसल उस वक़

कांग्रेस – एन सी पी के दरमयान रंजिशों का हल निकलता हुआ नज़र आ रहा है क्योंकि वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह की एन सी पी सरबराह शरद पवार से मुलाक़ात के इशारे मिल रहे हैं कि यू पी ए की कोआर्डीनेशन कमेटी तशकील दी जा सकती है । तनाज़ा ( झगड़ा) दरअसल उस वक़्त शुरू हुआ जब प्रफुल पटेल ने मुतनाज़ा (विवादित) ब्यान दिया था कि इन की पार्टी ने कांग्रेस को अल्टीमेटम दिया है और इसी बोहरान ( संकट) के आग़ाज़ के बाद पहली बार उन्होंने महाराष्ट्रा के वज़ीर-ए-आला पृथ्वी राज चौहान से भी मुलाक़ात की थी ।

ज़राए ने बताया कि वज़ीर-ए-आज़म शरद पवार और प्रफुल पटेल से जल्द ही एन सी पी की जानिब से उठाए गए मसाइल ( समस्याओं) की यकसूई के लिए मुलाक़ात करेंगे जिस में यू पी ए के लिए कोआर्डीनेशन कमेटी तशकील भी शामिल है । ये तवक़्क़ो ( उम्मीद) भी की जा रही है कि यू पी ए सदर नशीन सूनीन गांधी भी इस मुलाक़ात का हिस्सा होंगी ।

परनब मुकर्जी की हलफ़ बर्दारी ( शपथ ग्रहण) की तक़रीब में जो मुनाज़िर ( शास्त्रार्थी) नज़र आए इस से कांग्रेस की जानिब से ये वाज़िह ( स्पष्ट) इशारा मिल रहा है कि हुकूमत में अब वज़ीर-ए-दिफ़ा ( रक्षा मंत्री) ए के अनटोनी को नंबर 2 की पोज़ीशन हासिल है क्योंकि वो तक़रीब ( सामारोह) के दौरान वज़ीर-ए-आज़म की नशिस्त ( सीट) की बाज़ू वाली नशिस्त ( सीट) पर बैठे हुए थे ।

और उन के बाद शरद पवार बैठे हुए थे । दूसरी तरफ़ कांग्रेस ज़राए ने बताया कि प्रफुल पटेल ने वज़ीर-ए-आला पृथ्वी राज चौहान से ये कहा है कि रंजिश दरअसल उन को निशाना बनाने के लिए नहीं है बल्कि बाअज़ ( कुछ) मसाइल ( समस्याए) की मर्कज़ ( केंद्र) की जानिब से यकसूई की जानिब है ।

मनमोहन सिंह ने कहा कि हम एन सी पी से मुआमलात की यकसूई ( निवारण) पर तबादला-ए-ख़्याल ( विचार विमर्श) करने तैयार हैं । सियासत में कुछ लो और कुछ दो का उसूल चलता है ।

Top Stories