सियोल न्यूक्लियर तवानाई का हुसूल ईरान का हक़

सियोल न्यूक्लियर तवानाई का हुसूल ईरान का हक़
बर्लिन, 12 अप्रैल: (पी टी आई) हिंदूस्तान ने ईरान के मुतनाज़ा न्यूक्लियर प्रोग्राम के मुआमले में जारी पेचीदगीयों का सिफ़ारती हल तलाश करने की ज़रूरत पर ज़ोर दिया । इस के साथ साथ हिंदूस्तान ने पुरअमन अग़राज़ के लिए सियोल न्यूक्लियर तवानाई क

बर्लिन, 12 अप्रैल: (पी टी आई) हिंदूस्तान ने ईरान के मुतनाज़ा न्यूक्लियर प्रोग्राम के मुआमले में जारी पेचीदगीयों का सिफ़ारती हल तलाश करने की ज़रूरत पर ज़ोर दिया । इस के साथ साथ हिंदूस्तान ने पुरअमन अग़राज़ के लिए सियोल न्यूक्लियर तवानाई के हुसूल को तहरान का हक़ क़रार देते हुए उस की ताईद की ।

वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह जर्मन चांसलर अनजीला मर्कल के साथ तबादला-ए-ख़्याल के दौरान ये राय पेश की । दोनों क़ाइदीन ने तिजारती मौज़ूआत के इलावा बैन-उल-अक़वामी सतह पर एहमीयत के हामिल मसाइल जैसे दहशतगर्दी अफ़्ग़ानिस्तान ईरान के न्यूक्लियर प्रोग्राम और शाम की सूरत-ए-हाल पर तबादला-ए-ख़्याल किया ।

अनजीला मर्कल ने ईरान के ताल्लुक़ से कहा कि उन्होंने जारी (P5+1) मुज़ाकरात के पेशे नज़र मुख़्तसर बात की । उन्होंने कहा कि जारी मुज़ाकरात अब तक कामयाब साबित नहीं हुए जिसका उन्हें शख़्सी तौर पर अफ़सोस है । जहां तक जर्मनी का ताल्लुक़ है ये मुज़ाकरात पर हमें तशवीश लाहक़ है ।

वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह ने ईरान के तेल पर हिंदूस्तान के इन्हिसार और इस इलाक़े में हिंदूस्तानी अवाम की मौजूदगी का हवाला देते हुए मुल्क के मौक़िफ़ का इआदा किया । उन्होंने कहा कि पुरअमन अग़राज़ के लिए सियोल न्यूक्लियर तवानाई का हुसूल ईरान का हक़ है और हम उस की ताईद करते हैं ।

उन्होंने कहा कि ईरान ने एन पी टी पर दस्तख़त किए हैं और उसे न्यूक्लियर हथियार तैयार करने से रोकना चाहिये । उन्होंने बताया कि इस पेचीदा मसला को हल करने के लिए सिफ़ारती रास्ता ही बेहतरीन मुतबादिल है ।

मनमोहन सिंह ने कहा कि हिंदूस्तान एक खुली किताब और एक खुले समाज का हामिल है जहां जम्हूरीयत तौर पर काम कर रही है और आज़ादी-ओ-हक़ूक़-ए-इंसानी का मुकम्मल एहतेराम किया जाता है । दिल्ली में तालिबा की इस्मतरेज़ि वाक़िया का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि जैसे ही ये वाक़िया मंज़रे आम पर आया हिंदूस्तानी समाज के तमाम वसाइल को यकजा किया गया और इसके नतीजा में एक ऐसे क़ानून की राह हमवार हुई जिस के नतीजा में ऐसे अन्दोहनाक वाक़ियात से सख़्ती से निमटा जा सकेगा ।

इस दौरान मोतमिद ख़ारिजा रंजन मथाई ने अमेरीका और अक़वाम-ए-मुत्तहिदा की जानिब से ईरान के ख़िलाफ़ आइद सख़्त मआशी तहदेदात की परवाह किए बगै़र कहा कि हम ईरान से तेल की ख़रीदारी बरक़रार रखेंगे और वो एक अहम तेल सरबराह करने वाला मुल्क है ।

मथाई ने कहा कि ईरान से तेल की ख़रीदारी जारी रहेंगी । हालिया अर्सा में ज़राए हमल-ओ-नक़ल और बैंकिंग के मसाइल की वजह से ईरान से तेल की दरआमद में किसी क़दर कमी वाकेय् हुई है । इसके इलावा कोई और वजह नहीं है । हिंदूस्तान और जर्मनी के माबेन आज छः याददाश्त मुफ़ाहमत पर दस्तख़त हुए जिन के मिनजुमला एक मुआहिदा के तहत आइन्दा चार साल के दौरान आली तालीम के लिए सात मिलियन यूरो का फ़ंड इकट्ठा किया जाएगा इसके इलावा एक और मुआहिदा किया गया जिस के तहत ग्रीन अनर्जी कॉरीडॉर के लिए एक बिलियन यूरो का क़र्ज़ आसान शराइत पर पेश किया जाएगा।

दोनों फ़रीक़ैन ने बेन हुकूमती मुशावरत के दूसरे दौर में हिंदूस्तान में जर्मनी को बैरूनी ज़बान के तौर पर फ़रोग़ देने के लिए भी मुआहिदा पर दस्तख़त किए हैं। जो मुआहिदे आज तए पाए हैं उन के तहत हिंदूस्तान और जर्मनी ने एक जवाइंट रिसर्च-ओ-इनोवेशन प्रोग्राम के लिए फी कस 3.5 मिलियन यूरोज़ फ़राहम करने से इत्तिफ़ाक़ किया है ।

ओहदेदारों के बमूजब बैरूनी ज़बान के इस्तेहकाम के प्रोग्राम के तहत हिंदूस्तान में केंद्रीय विद्यालय में 30,000 बच्चे जर्मन ज़बान सीख रहे हैं और इस मुआहिदा के तहत उस तादाद में मज़ीद इज़ाफ़ा की कोशिश की जाएगी ।

Top Stories