CIA के दस्तावेज से खुलासा : मसूद अजहर ओसामा से पहले पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी से पा रहा था फंड

CIA के दस्तावेज से खुलासा : मसूद अजहर ओसामा से पहले पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी से पा रहा था फंड

नई दिल्ली : एक समाचार रिपोर्ट सीआईए के कागजात को उद्धृत करते हुए कहा कि पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (ISI) द्वारा जैश-ए-मोहम्मद (JeM) के पूर्ववर्ती संगठन, हरकत-उल-अंसार को वित्त पोषित किया गया था। सीआईए के दस्तावेज जिन पर अभी तक पाकिस्तानी अधिकारियों द्वारा टिप्पणी नहीं की गई है, यह दर्शाता है कि हरकत-उल-अंसार को पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI से फंड प्राप्त हुआ था और बाद में संगठन अधिक धन के लिए ओसामा बिन लादेन की ओर बढ़ गया। क्योंकि आतंकवाद के लिए प्रायोजक माने जाने वाले देशों की सूची में शामिल होने के डर से पाकिस्तान द्वारा वित्तीय सहायता को कम कर दिया गया था।

अमेरिकी (सेंट्रल इंटेलिजेंस एजेंसी) रिकॉर्ड के दस्तावेज के अनुसार रिपोर्ट में कहा गया है कि “मसूद अज़हर, संस्थापक जैश-ए-मोहम्मद हरकत-उल-अंसार का शीर्ष अधिकारी था। वह पाकिस्तानी खुफिया एजेंसियों से नियमित रूप से धन प्राप्त करता था और शिकायत करता था कि पर्याप्त धन नहीं भेजा जा रहा है। मसूद हरकत-उल-अंसार में महासचिव थे जब उन्हें 1994 में कश्मीर में भारत द्वारा गिरफ्तार किया गया था।

“राजनयिक रिपोर्टों से संकेत मिलता है कि आईएसआई ने कम से कम 30,000 डॉलर – या संभवतः 69,000 डॉलर प्रति माह हरकत-उल-अंसार को प्रदान किया। आतंकी संगठन मुख्य रूप से भारत को निशाना बना रहे थे। इसने पश्चिमी नागरिकों को बंधक बना लिया था और संभवतः उन्हें ‘मार दिया था”। भारतीय समाचार पत्र द्वारा उद्धृत रिपोर्ट सीआईए द्वारा 1996 में तैयार की गई थी, लेकिन पिछले साल डिक्लियर किए गए दस्तावेजों के एक अंश के रूप में सार्वजनिक रूप से उपलब्ध कराई गई थी।

समाचार पत्र की रिपोर्ट में खुफिया जानकारी के हवाले से लिखा गया है कि मसूद को न केवल आईएसआई से, बल्कि अफगानिस्तान में तालिबान सरकार और अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी ओसामा बिन लादेन से वित्तीय सहायता और समर्थन प्राप्त था।

Top Stories