Sunday , December 17 2017

सुपर सीरीज़ के फाईनल के लिए क्वालीफ़ाई करना मेरी तरजीह : कशीप

अपने टुख़ने के ज़ख़म से पूरी तरह सेहतयाब होने के बाद हिंदुस्तान के टाप बैड मेन्टन खिलाड़ी पी कशीप अब आइन्दा चार टूर्नामेंटस में मुस्तक़िल मिज़ाजी से मुज़ाहरा करने पर तवज्जो देना चाहते हैं ताकि बी डब्ल्यू एफ सुपर सीरीज़ के फाईनल के लिए क्वालीफ़ाई हो सकें।

ये टूर्नामेंट दिसम्बर में मलेशिया में होने वाला है। कशीप ने पी टी आई से कहा कि वो चाहते हैं कि सुपर सीरीज़ फाइनल्स के लिए क्वालीफ़ाई करें। इस के लिए उन्हें जारिया साल मज़ीद चार टूर्नामेंटस खेलने होंगे और इन में अच्छी कारकर्दगी का मुज़ाह‌रा करना होगा। वो इसी कोशिश में हैं कि चारों टूर्नामेंटस में अच्छी कारकर्दगी दिखाते हुए सुपर सीरीज़ फाइनल्स के लिए क्वालीफ़ाई करें।

उन्होंने कहा कि उनके ख़्याल में ऐसा करने के लिए अच्छा मौक़ा दस्तयाब है। उन्हें टाप 8 खिलाड़ियों में जगह हासिल करनी है और उन्हें चारों टूर्नामेंटस में मुस्तक़िल मिज़ाजी से अपनी कारकर्दगी दिखानी होगी। चार में कम सेज़ कम तीन टूर्नामेंटस में उन्हें क्वार्टर फाइनल्स तक पहूंचना होगा। वो अपने ज़ख़म की वजह से कुछ वक़्त से खेल से दूर हैं और आलमी दर्जा बंदी में उनकी रैंकिंग में तीन मुक़ाम की गिरावट आई है।

जारिया साल डेनमार्क और चीन में सुपर सीरीज़ मुक़ाबले होने वाले हैं जबकि सुपर सीरीज़ टूर्नामेंटस हांगकांग और फ़्रांस में खेले जाने हैं। पी कशीप चाहते हैं कि इन तमाम ही टूर्नामेंटस में वो अच्छा मुज़ाहरा करते हुए अपनी रैंकिंग में बेहतरी पैदा करें। पी कशीप लंदन ओलम्पिकस के क्वार्टर फाइनल्स तक पहूंचे थे। उन्होंने कहा कि उन्हें इन टूर्नामेंट से पहले अपनी फ़िटनेस हासिल करनी है और इस के लिए वो नेट गेम्स पर तवज्जो कर रहे हैं।

इसके बाद वो पूरी तरह से ट्रेनिंग शुरू करसकते हैं। उन्होंने कहा कि इंडियन बैड मेन्टन लीग में लखनऊ और बैंगलोर के माबेन मैच में वो सुर्यकांत के ख़िलाफ़ खेलते हुए ज़ख‌मी होगए थे। हालाँकि ये ज़ख़म पूरी तरह ठीक‌ होचुका है लेकिन कुछ दर्द बाक़ी है। उन्होंने चंद दिन पहले ट्रेनिंग शुरू करदी है और इस में कुछ सूजन आगई है।

इसे मैं वो पूरी ट्रेनिंग और प्रेक्टिस नहीं कर रहे हैं और सुस्त रफ़्तारी से खेल रहे हैं। उन्हें पूरी तरह सेहतयाब होकर ट्रेनिंग शुरू करने के लिए कुछ वक़्त दरकार होगा। उनके ख़्याल में वो बहुत जल्द पूरी तरह फिट होजाएंगे। उन्होंने कहा कि डेनमार्क टूर्नामेंट के लिए कुछ वक़्त है। उन्हें इस के लिए अभी से सख़्त ट्रेनिंग करनी पड़ेगी। वो आई बी एल में अच्छा खेल रहे थे। ताहम अचानक ज़ख़मी होगए। उन्हें अपने खेल पर भी तवज्जो देनी है और कुछ कमज़ोरियों को दूर करना है।

TOPPOPULARRECENT