सुप्रीम कोर्ट ने गुजरात चुनाव की मतगणना में दखल देने से किया इनकार

सुप्रीम कोर्ट ने गुजरात चुनाव की मतगणना में दखल देने से किया इनकार
Click for full image

नई दिल्ली : गुजरात चुनाव के नतीजे आने से तीन दिन पहले सुप्रीम कोर्ट पहुंची कांग्रेस को झटका लगा है। कोर्ट ने मतगणना में दखल देने से इनकार करते हुए पार्टी की याचिका को खारिज कर दिया है। कांग्रेस ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर मांग की थी कि 18 दिसंबर को मतगणना के दौरान कम से कम 25% VVPAT पर्चियों को ईवीएम से क्रॉस वेरिफाइ किया जाए। याचिका में कहा गया था कि EVM में जो वोट पड़े हैं, उनका मिलान VVPAT (वोटर वेरिफाइड पेपर ऑडिट ट्रेल) पर्चियों से किया जाए।

गौरतलब है कि गुजरात चुनाव के पहले और दूसरे चरण में कई जगहों पर ईवीएम में खराबी की खबरें आयी थीं. विपक्ष लगातार इस बात को उठाता रहा है कि ईवीएम के साथ छेड़छाड़ हो रही है. उसने कई बार ईवीएम को हैक करके नतीजों को प्रभावित करने का आरोप भी लगाया है. बसपा सुप्रीमो मायावती, समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव जैसे नेता भी ईवीएम के खिलाफ आवाज उठा चुके हैं. ईवीएम के वोटों और वीवीपैट की पर्चियों के मिलान को लेकर कांग्रेस पार्टी की मांग हाल के दौरान ईवीएम के खिलाफ बड़ी मांग है.

इतना ही नहीं, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने राज्य निर्वाचन आयोग से आग्रह किया था कि नगर निगम का चुनाव ईवीएम के बदले बैलट पेपर से कराये जायें. कांग्रेस से पहले किसी राजनीतिक पार्टी ने अभी तक पर्चियों के मिलान की इस तरह की कोई मांग नहीं की थी.

आपको बता दें कि ईवीएम को लेकर उठ रहे सवालों के मद्देनजर ही गुजरात में चुनाव में इस्तेमाल की गईं सभी EVMs को VVPAT मशीनों से जोड़ा गया था। इस मशीन के जरिए मतदाता को यह सुनिश्चित करवाया जाता है कि उसने EVM पर जिस प्रत्याशी को वोट दिया है, वास्तव में वोट उसी को गया है। मशीन के डिस्प्ले उसी प्रत्याशी के नाम की पर्ची नजर आती है और फिर वह पर्ची मशीन में रह जाती है। गड़बड़ी की आशंका में इन पर्चियों का इस्तेमाल किया जा सकता है।

Top Stories