Thursday , November 23 2017
Home / Assam / West Bengal / सुरक्षा कर्मियों ने ढोला-सादिया पुल पर प्रवेश करने से तरुण गोगोई को रोका

सुरक्षा कर्मियों ने ढोला-सादिया पुल पर प्रवेश करने से तरुण गोगोई को रोका

असम के पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई को 22 मई को टिनसुकिया जिले में “सुरक्षा कारणों” की वजह से ढोला-सादिया पुल में प्रवेश करने से रोक दिया गया। शुक्रवार को प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी इस पुल का उद्घाटन करेंगे।

पुल का निर्माण 2011 में शुरू किया गया था, जब केंद्र और राज्य दोनों में कांग्रेस की सत्ता थी।

26 मई को प्रधान मंत्री की यात्रा से पहले इस पुल को विशिष्ट सुरक्षा समूह (एसपीजी) को सौंप दिया गया है।

“उन्होंने मुझे पुल पर जाने की इजाज़त यह कह कर नहीं दी की सुरक्षा कारण और कानून-व्यवस्था के मुद्दे हैं …क्या मैं एक आतंकवादी हूं? क्या मैं कानूनों को तोड़ दूंगा? वे मुझे क्यों पुल का दौरा करने की अनुमति नहीं दे रहे हैं? ” गोगोई ने पूछा जो खुद ‘जेड प्लस’ सुरक्षा कवर का आनंद उठाते हैं।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार ने इस पुल की नींव रखी थी, उसका निर्माण शुरू किया और पुल का निर्माण ब्रह्मपुत्र नदी पर ख़तम किया था , लेकिन भाजपा इस पुल का धूमधाम से उद्धघाटन कर इस पुरे काम का श्रेय लेना चाहती है।

“ऐसा लगता है जैसे हमने एक वृक्ष लगाया, उसे पानी दिया और बढ़ने मे मदद करी, लेकिन अब वे लोग फल खा रहे हैं । उन्हें फल खाने दो। लेकिन क्या मैं यहां तक ​​आकर अपने पेड़ को भी नहीं देख सकता? ” वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने कहा।

गोगोई, जो मंगलवार की सुबह मौके पर पहुंचे थे, उन्हें सुरक्षा कर्मियों ने पुल का दौरा नहीं करने दिया। गोगोई ने यह आरोप लगाया की उन्हें “राजनीतिक साजिश” के कारण रोका जा रहा है।

संपर्क किए जाने पर, तिनसुकिया जिला के डिप्टी कमिश्नर रंजन चक्रवर्ती ने कहा, “उद्घाटन के कारण पुल बंद कर दिया गया है। एसपीजी इसकी देख रेख कर रही है और एसपीजी श्रमिकों के अलावा किसी और को प्रवेश नहीं करने दे रही है। ”

9.16 किमी लम्बे ढोल-सादिया पुल को देश का सबसे लम्बा पुल माना जा रहा है।

TOPPOPULARRECENT