सेना अपहरण, रेप हत्या सब करे लेकिन हम सवाल नहीं कर सकते- CPM नेता

सेना अपहरण, रेप हत्या सब करे लेकिन हम सवाल नहीं कर सकते- CPM नेता
Click for full image

कन्नूर। सेना से जुड़े एक बयान देकर केरल सीपीएम के सचिव कोडियारी बालकृष्णन ने देशभर में सनसनी फैलादी है। बालकृष्णन ने अपने एक बयान में कहा कि सेना को यदि पूरी शक्ति दे दी जाती है, तो वे कुछ भी कर सकते हैं। सेना के जवान किसी महिला का अपहरण और रेप कर सकते हैं, किसी को भी गोली मार सकते हैं, लेकिन किसी को उनसे सवाल करने का हक नहीं है।

खबरों के मुताबिक बालकृष्णन ने कन्नूर में अल्पसंख्यकों के संरक्षण पर एक सेमिनार के दौरान ये बात कही। बालकृष्णन ने कहा कि सेना के जवान किसी के साथ कुछ भी कर सकते हैं। चार से ज्यादा लोगों को साथ देखने पर उन्‍हें गोली मार सकते हैं। वह किसी भी महिला को उठा कर रेप कर सकती हैं, लेकिन किसी को सेना से सवाल करने का अधिकार नहीं है।

उन्होंने कहा कि जिस भी राज्‍य में सेना है, वहां ऐसे ही हालात है। गौरतलब है कि पिछले साल राज्य में एलडीएफ सरकार के सत्ता में आने के बाद से उत्तर केरल के कन्नूर में माकपा, आरएसएस और बीजेपी कार्यकर्ताओं के बीच हिंसा और राजनीतिक हत्याओं की कई घटनाएं सामने आई है।

CPM नेता ने कहा, आतंकवाद पर लगाम लगाने के नाम पर आफ्सपा (सशस्त्र बल विशेष अधिकार अधिनियम) जहां भी लागू किया गया, वहां नागरिकों के अघिकारों का हनन और उनका शोषण ही हुआ। उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर, नगालैंड में आफ्सपा लागू किया गया तो इन राज्यों में अल्पसंख्यक समुदाय की महिलाओं पर सेना ने ज्यादती की।

बालकृष्णन ने कहा कि अगर यह अधिनियम कन्नूर में लागू कर दिया गया तो यहां भी वैसा ही होगा, जैसा कि बीजेपी और आरएसएस के लोग मांग कर रहे हैं। इसलिए इसे यहां लागू करने की मांग का विरोध करने के लिए सभी लोगों को आगे आना चाहिए।

दरअसल, राज्य में संघ और सीपीएम के बीच हिंसक संघर्ष का दौर चल रहा है। इस महीने सत्तारूढ़ सीपीएम के कथित कार्यकर्ताओं पर आरएसएस के एक कार्यकर्ता की हत्या का आरोप लगा था। इसके बाद राज्य में जारी राजनीतिक हत्यों पर केरल भाजपा के अध्यक्ष कुम्मनन राजशेखरण ने कन्नूर में केन्द्र से अफ्सपा लगाने की मांग की थी, जिसके विरोध में बालकृष्णन ने यह बयान सामने आया है।

बालकृष्णन के इस बयान पर भाजपा ने तीखी प्रतिक्रिया दी है। पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता जेआर पद्मकुमार ने कहा कि बालकृष्णन का बयान लोगों और देश का गौरव कहलाने वाली सेना को महिलाओं के अपहरणकर्ता और हमलावर के रूप में चित्रित करता है, जो देशद्रोह है।

Top Stories