Thursday , December 14 2017

सेहतमंद इंसान के क़ल्ब की तशख़ीस ज़रूरी

हनमकोंडा राम नगर में अमराज़ क़ल्ब से तहफ़्फ़ुज़ के लिए एहतियाती तदाबीर पर एक ट्रेनिंग प्रोग्राम सहाफ़ीयों के लिए सरीनवास हार्ट फ़ाउंडेशन के ज़ेर‍ ए‍ एहतेमाम मुनाक़िद किया गया जिसमें मेहमानान ख़ुसूसी की हैसियत से डी पी आर ओ वेंकट र

हनमकोंडा राम नगर में अमराज़ क़ल्ब से तहफ़्फ़ुज़ के लिए एहतियाती तदाबीर पर एक ट्रेनिंग प्रोग्राम सहाफ़ीयों के लिए सरीनवास हार्ट फ़ाउंडेशन के ज़ेर‍ ए‍ एहतेमाम मुनाक़िद किया गया जिसमें मेहमानान ख़ुसूसी की हैसियत से डी पी आर ओ वेंकट रमना ने ख़िताब करते हुए कहा कि बाअज़ सहाफ़ी 40 साल से भी कम उम्र वाले अमराज़‍ ए‍ क़ल्ब से मुतास्सिर होकर फ़ौत हो रहे हैं क्यों कि सहाफ़ी हज़रात अपनी सेहत का ख़्याल नहीं रखती।

90 फ़ीसद रिपोर्टर्स ख़बरें मालूम करने में लगे रहते हैं उन्हें अपनी सेहत का ज़रा भी ख़्याल नहीं रहता, उनके लिए इस तरह का प्रोग्राम काफ़ी एहमीयत का हामिल है। इस मौक़ा पर डाक्टर सिरीनवास ने कहा कि क़ल्ब के हमला से कई लोग फ़ौत हुए हैं इस में इंसान को समझने का वक़्त ही नहीं मिलता अचानक मौत वाक़्य होती है।

उन्होंने कहा कि बेल्जीयम में एक फ़िल्म डायरेक्टर स्टेज पर ही फ़ौत हो गया, कर्नाटक़ कोर्ट के एक जज अपने टेबल पर ही फ़ौत हो गई, बैंगलोर स्टेडीयम में एक फुटबॉल खिलाड़ी मैदान में ही क़ल्ब पर हमला से फ़ौत हो गया।

उन्होंने कहा कि CPR के तहत शऊर बेदारी के प्रोग्राम के तहत मुख़्तलिफ़ इलाक़ों और मह्कमाजात में Chain of Surgical Concept के तहत मरीज़ को फ़ौरी तिब्बी इम्दाद किस तरह पहुंचाई जाये, शऊर बेदारी प्रोग्राम मुनाक़िद किए जाएंगे।

उन्होंने कहा कि माह जून में हाई स्कूल में भी बच्चों के लिए सी पी आर ट्रेनिंग दी जाएगी। महकमा पुलिस, एल आई सी, आर टी सी, क़ाज़ी पेट में रेलवे मुलाज़मीन पर भी क़ल्ब पर हमला होने पर किस तरह फ़ौरी तिब्बी इम्दाद पहुंचाई जाए, सिरी निवास फ़ाउंडेशन की जानिब से शऊर बेदारी ट्रेनिंग प्रोग्राम मुनाक़िद किया जाएगा।

TOPPOPULARRECENT