Saturday , May 26 2018

सैक्यूलर अज़म एक ख़ूबी : के रहमान ख़ान

नई दिल्ली, 08 फ़रवरी: ( पी टी आई) मर्कज़ी वज़ीर‍ ए‍ अक्लीयती उमूर ( Minority Affairs Minister) के रहमान ख़ान ने आज सैक्यूलर अज़म (Secularism) को एक ख़ूबी क़रार देते हुए कहा कि ये लोगों को इंसानी इक़दार (human values) का एहतिराम करना सिखाती है वो जामिआ मिलीया इस्लामीया के ज़े

नई दिल्ली, 08 फ़रवरी: ( पी टी आई) मर्कज़ी वज़ीर‍ ए‍ अक्लीयती उमूर ( Minority Affairs Minister) के रहमान ख़ान ने आज सैक्यूलर अज़म (Secularism) को एक ख़ूबी क़रार देते हुए कहा कि ये लोगों को इंसानी इक़दार (human values) का एहतिराम करना सिखाती है वो जामिआ मिलीया इस्लामीया के ज़ेर-ए-एहतिमाम एक बैन-उल-अक़वामी कान्फ्रेंस के इफ़्तेताही इजलास से “इस्लाम और जदीदीयत (‘Islam and Modernity:) : बदी उज़्ज़मां (Bediuzzaman) सैयद नूरी का नज़रिया के ज़ेर-ए-उनवान ख़िताब कर रहे थे ।

उन्होंने कहा कि सैक्यूलर अज़म एक ऐसी ख़ूबी है जो इंसानी इक़दार (human values) का एहतेराम (सिखाती है । इंसानी इक़दार के एहतिराम के बाद हम क़ुरआन-ए-करीम और इस्लाम का एहतिराम करना भी सीख जाते हैं । उन्होंने कहा कि सैयद नूरी एक सुन्नी मुस्लिम मुफ़क्किर थे जिन्होंने रिसाला नूर तहरीर किया था । जिसमें क़ुरआन-ए-करीम की तफ़सीर 6 हज़ार सफ़हात में की गई थी ।

TOPPOPULARRECENT