Wednesday , December 13 2017

स्कूल पुराने शहर का पहला डीजीटल‌र इंटरनैशनल मयार तालीम का मर्कज़ VIPS Internation School

हैदराबाद १२ जुलाई ( सियासत न्यूज़ ) वालदैन की यही ख़ाहिश होती है कि इन के बच्चे किसी अच्छे स्कूल में मयारी तालीम हासिल करें ।

हैदराबाद १२ जुलाई ( सियासत न्यूज़ ) वालदैन की यही ख़ाहिश होती है कि इन के बच्चे किसी अच्छे स्कूल में मयारी तालीम हासिल करें ।

मयारी स्कूल से मुराद माज़ी क़रीब तक मिशनरीज़ के स्कूलस थे जहां मुंह मांगी दौलत देकर बच्चों को दाख़िला दिलवाना पड़ता था लेकिन पुराने शहर में आलमी मयार के मुताबिक़ तालीम-ओ-तर्बीयत का ख़ाब हक़ीत बन गया है । वी आई पी इंटरनैशनल स्कूलस को मयारी स्कूलस क़रार दिया जा सकता है क्योंकि इन स्कूल के क़ियाम का मक़सद इस्लामी तालीमात के साथ असरी तालीम कीफ़राहमी है ।

जनाब मुजतबा ख़ां (आमिर ) मनीजिंग डायरैक्टर वी आई पी इंटरनैशनल स्कूल ने बताया कि इस इदारा का क़ियाम ही इस के तहत अमल में लाया कि हमारे बच्चे अंग्रेज़ी ज़रीया तालीम हासिल करते हुए जदीद टैक्नालोजी से भी बख़ूबी वाक़िफ़ हूँ ता कि इन में एहसास कमतरी ना हो ।

हम ने जब वी आई पी इंटरनैशनल स्कूल का मुशाहिदा किया तो हमें ये जान कर हैरत हुई कि पुराने शहर में ऐसा स्कूल भी चलाया जा रहा है जहां बच्चों को बड़े बड़े स्क्रीन के ज़रीया तालीम दी जा रही है जिस से बच्चों में ज़ौक़ पैदा होता है और सबक़ को समझने में बड़ी मदद मिलती है । मुजतबा ख़ां साहिब ने जो इस स्कूल के बानी भी हैं । बताया कि इन स्कूलस में इस बात का खासतौर पर ख़्याल रखा जाता है कि बच्चे मयारी तालीम के साथ साथ बाकरदार शहरी बन कर निकलें। सदर नशीन वे आई पेज इंटरनैशनल स्कूलस ने बताया कि इन के हाँ असातिज़ा बाज़ाबतातर्बीयत दी जाती है और उन्हें बच्चों को किस तरह तालीम दी जाय इस बारे में ज़हननशीन करवाया जाता है ।

उन्हों ने बताया कि गुज़शता चार साल से उन के ऐस एससी इमतिहानात के नताइज सद फ़ीसद रहे और नुमायां मुक़ाम हासिल रहा । मुजतबा ख़ान बड़े फ़ख़्रिया अंदाज़ में बताया कि हमारा मक़सद बच्चों की तालीमी सलाहीयतों को प्रवान चढ़ाता और उन में तालीमी महारत पैदा करता है ।

उन्हों ने मज़ीद बताया कि इन के हाँ हर एक क्लासरूम में तेज़ रफ़्तारी के साथ कारकरद इंटरनैट और कम्पयूटर की सहूलत हासिल है जिस से डीजीटल स्क्रीन पर अस्बाक़ का दरस दिया जाता है । हर एक तालिब-ए-इल्म को रीमोट कंट्रोल इला के ज़रीया अपनी ज़हानत और तालीमी इस्तिदाद के मुज़ाहरा का मौक़ा दिया जाता है और इस से बादअज़ां तलबा के सर परस्तों को भी वाक़िफ़ करवाया जाता है ।

मुजतबा ख़ां के बमूजब मुस्लिम तलबा-ए-ओ- तालिबात केलिए परी प्राइमरी सतह से बाक़ायदा दीनयात की क्लासस का एहतिमाम है । नर्सरी से लेकर IV वीं जमात के तलबा-ए-ओ- तालिबात को तजवीद के साथ क़ुरआन मजीद का पहला और मुकम्मल करना होता है । इस के इलावा इन स्कूलस में मुस्लिम तलबा केलिए नमाज़ की अदायगी केलिए अलहदा नमाज़ हाल भी मुख़तस किए गए हैं ।

उन्हों ने मज़ीद बताया कि फ़िलहाल उन के तीन सैंटरस काम कररहे हैं । शाहीन नगर ,मुग़ल पूरा और सईद आबाद ।जिस में तक़रीबन1200 तलबा-ए-ओ- तालिबात ज़ेर-ए-तालीम है और बहुत जल्द मज़ीद वाई पेज इंटरनैशनल स्कूल की शाख़ें मुख़्तलिफ़ मुक़ामात पर क़ायम की जाएंगी । मज़ीद तफ़सीलात केलिए फ़ोन नंबर 9246343131 पर राब्ता क़ायम करें ।

TOPPOPULARRECENT