Sunday , December 17 2017

स्कूल में बेटी को इस्लाम के बारे में पढ़ाया तो मां ने छेड़ा धर्मयुद्ध

अमेरिका के दक्षिण-पूर्वी राज्य टेनेसी में जब एक माँ को पता चला कि स्कूल में उसकी बेटी को इस्लाम धर्म के बारे में पढ़ाया जा रहा है तो उसने उसके खिलाफ धर्मयुद्ध छेड़ दिया। मिशेल एडमीस्टेन की बेटी 7वीं क्लास में पढ़ती है और सामाजिक अध्ययन पाठ्यक्रम में उसको इस्लाम के बारे पढ़ना है। किंग्सपोर्ट टाइम्स के अनुसार मिशेल का कहना है कि अगर उनकी बेटी को इस्लाम धर्म के बारे में पढ़ाया गया तो उससे उनके धर्म पर विपरित असर पड़ेगा।

सोमवार की रात को स्कूल बोर्ड की एक बैठक को संबोधित करते हुए मिशेल ने  मांग की कि इस हिस्से को तुरंत पाठ्यपुस्तकों से निकाला जाए। सीबीएस से संबद्ध डब्ल्यूजेएचएल का कहना है कि मिशेल ने इस वक़्त सभी अभिभावकों, शिक्षकों और प्रशासकों को खड़े होकर इस व्यवस्था से अपने परिवार, स्कूल और देश को बचाने का अह्वान किया है। एक टीवी चैनल पर मिशेल ने कहा कि मैं चाहती हूं कि सभी माता-पिता, ईसाई दिग्गज और पूर्व सैनिक उठे और इसके खिलाफ लड़ें। उन्होंने कहा कि अगर ऐसा होगा तो हम कैसे अपने बच्चों के अंदर ईसाई धर्म के मूल्यों को बचा पाएगें। मैं अपनी बेटी के भीतर इन्हीं मूल्यों को देखना चाहती हूं जो हमारे भीतर है, फिर कहती हूं-यह ठीक है, आगे बढ़ो और इसे रहने दो।

मिशेल अकेली ऐसी अभिभावक है जिन्होंने यह मुद्दा उठाया है। स्कूल बोर्ड ने पाठ्यक्रम से इसे निकालने को लेकर विस्तार से बात की है और कहा है कि किसी भी प्रकार का परिवर्तन राज्य के मौजूदा मानकों के अनुरूप ही किया जाएगा। स्टेट बोर्ड एजूकेशन की वेबसाइट के अनुसार बच्चों को ईसाई, यहूदी, बौद्ध और हिंदू धर्म के बारे 6वीं में पढ़ाया है और 7वीं कक्षा में इस्लाम के बारे में। इस्लाम के साथ-साथ यहूदी और ईसाई धर्म के ऐतिहासिक मूल्यों पाठ्यक्रम में शामिल किया गया है।

TOPPOPULARRECENT