स्कॉलरशिप स्कीम, क़िस्त की इजराई में ताख़ीर का सख़्त नोट

स्कॉलरशिप स्कीम, क़िस्त की इजराई में ताख़ीर का सख़्त नोट
Click for full image

तेलंगाना हुकूमत ने मुस्लिम तलबा के लिए चीफ़ मिनिस्टर ओवरसीज़ स्कॉलरशिप स्कीम की पहली क़िस्त की इजराई में ताख़ीर का सख़्ती से नोट लिया है और 10 दिसंबर तक तमाम मुंतख़ब उम्मीदवारों को पहली क़िस्त जारी करने की हिदायत दी है। डिप्टी चीफ़ मिनिस्टर मुहम्मद महमूद अली ने सियासत में आज रिपोर्ट की इशाअत के बाद इस मसला पर सेक्रेट्री अक़लीयती बहबूद को हिदायत दी और ओहदेदारों की जानिब से नई शराइत आइद किए जाने पर सख़्त ब्रहमी का इज़हार किया।

महमूद अली ने कहा कि हुकूमत इस स्कीम के तहत ज़्यादा से ज़्यादा ग़रीब और मुस्तहिक़ अक़लीयती तलबा को बैरून मुल्क आला तालीम के मवाक़े फ़राहम करना चाहती है लेकिन ओहदेदारों की जानिब से स्कीम में अमल आवरी में रुकावट पैदा करना अफ़सोसनाक है।

उन्होंने इस सिलसिले में मातहत ओहदेदारों की जानिब से जारी की गई नई शराइत से फ़ौरी दस्तबरदारी अख़तियार करने की हिदायत दी। सेक्रेट्री अक़लीयती बहबूद सैयद उमर जलील ने डिस्ट्रिक्ट माइनॉरिटी वेलफ़ेयर ऑफीसर हैदराबाद की जानिब से जारी कर्दा नई शराइत पर नाराज़गी का इज़हार किया और उन्हें हिदायत दी कि वो नई शराइत के नफ़ाज़ के ज़रीए मुंतख़ब तलबा को हिरासाँ करने की कोशिश ना करें।

इस सूरते हाल पर डिप्टी चीफ़ मिनिस्टर ने शदीद ब्रहमी का इज़हार किया और कहा कि स्कीम में जान-बूझ कर तसाहुल और कोताही के ज़िम्मेदार ओहदेदारों के ख़िलाफ़ कार्रवाई से गुरेज़ नहीं किया जाएगा।

Top Stories