स्टीफन हॉकिंग की आखिरी चेतावनी : मनुष्य को जिंदा रहने के लिए अगले 200 वर्षों में पृथ्वी छोड़ देनी चाहिए

स्टीफन हॉकिंग की आखिरी चेतावनी : मनुष्य को जिंदा रहने के लिए अगले 200 वर्षों में पृथ्वी छोड़ देनी चाहिए

यदि हम जीवित रहना चाहते हैं तो मनुष्य को अगले 200 वर्षों में पृथ्वी छोड़नी चाहिए। प्रोफेसर स्टीफन हॉकिंग ने 76 वर्ष की आयु में उनकी मौत से पहले ही यह चेतावनी जारी की थी। पौराणिक भौतिकविदों का मानना ​​था कि धरती पर जीवन एक आपदा से नष्ट हो सकता है जैसे कि क्षुद्रग्रह का पृथ्वी से टकराने पर, एआई या विदेशी आक्रमण आदि। उन्होंने पूरे दुनिया की आबादी को भी चेतावनी दी थी, मानव आक्रामकता और जलवायु परिवर्तन इंसान को खत्म कर सकता है। उनका मानना ​​था कि यदि हमारी प्रजातियां को जीवित रहने की कोई आशा है, तो भविष्य की पीढ़ियों को अंतरिक्ष में एक नया जीवन बनाने की आवश्यकता होगी।

जलवायु परिवर्तन


इस ग्रह के लिए हॉकिंग के मुख्य डर में से एक ग्लोबल वार्मिंग था। ‘हमारे भौतिक संसाधनों को एक खतरनाक रूप से दोहन किया जा रहा है। हॉकिंग ने जुलाई में चेतावनी दी थी की हमने अपने ग्रह को जलवायु परिवर्तन के विनाशकारी परिणाम के लिए खड़ा कर दिया है,’ ‘बढ़ते तापमान, ध्रुवीय क्षेत्रों में बर्फ की कमी, वनों की कटाई, और जानवरों की प्रजातियों के नाश। हम इससे अविचलित हो सकते हैं।’

हॉकिंग ने कहा कि अगर हम ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन में कटौती नहीं करते हैं तो पृथ्वी एक दिन 460 डिग्री सेल्सियस तापमान पर आ जाएगी। हॉकिंग ने कहा था ‘अगली बार जब आप एक जलवायु परिवर्तन के मामले पर मिलें और जो इस सत्य से इंकार करे, तो उन्हें शुक्र की यात्रा करने के लिए कहें। मैं किराया का भुगतान करूंगा,’।

भौतिक विज्ञानी का मानना ​​था कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के पेरिस जलवायु समझौते से वापस लेने का फैसला हमारे ग्रह को बर्बाद कर दिया है। उन्होंने चेतावनी दी कि ट्रम्प के फैसले से पीढ़ियों तक आने के लिए हमारे ‘सुंदर ग्रह’ पर होने वाली हानि का कारण होगा।

क्षुद्रग्रह के हमले


अगर ग्लोबल वार्मिंग हमें नष्ट नहीं कर पाई, तो हॉकिंग का मानना ​​है कि पृथ्वी क्षुद्रग्रह का हमले से नष्ट हो जाएगा। उन्होंने कहा यह साइंस फ्रीक्शन नहीं है उन्होने कहा भौतिकी और संभावनाओं के कानूनों द्वारा इसकी गारंटी दी जाती है।’रहने के लिए जोखिम को समाप्त किया जा रहा है। ‘अंतरिक्ष में फैलाने से मानवता के भविष्य को पूरी तरह से बदल दिया जाएगा। यह भी तय कर सकता है कि हमारे पास भविष्य में कोई भविष्य है या नहीं। ‘

हॉकिंग रूसी अरबपति यूरी मिलनर की ब्रेकथ्रू स्टारशॉट प्रोजेक्ट के साथ काम कर रहे थे, जो कि पृथ्वी पर सबसे नजदीकी स्टार पर लाइट सेल लेने के लिए छोटे नैनोक्रेट बेड़े को चार प्रकाश वर्ष यात्रा पर भेजा जाना था। उन्होने कहा ‘अगर हम सफल होते हैं, तो इसके लिए अल्फा सेंचुरी की जांच के लिए भेजेंगे’ जो आज आप में से कुछ के जीवनकाल वहाँ जिंदा रहेंगे।

खगोलविदों का अनुमान है कि अल्फा सेंचुरी के तीन सितारा तंत्र में ‘ इन्सानो के लिए रहने योग्य जगह है’ धरती जैसी ग्रह जहां इन्सानों के लिए रहने का उचित मौका है। हॉकिंग ने कहा ‘यह स्पष्ट है कि हम एक नई अंतरिक्ष युग में प्रवेश कर रहे हैं। हम एक नए युग की दहलीज पर खड़े हैं’।

हॉकिंग का मानना ​​था कि लंबे समय तक मानव जाति को एक टोकरी में अपने सभी अंडे को एक साथ नहीं होना चाहिए कहें तो एक ही ग्रह में मनुष्य को नहीं रहना चाहिए। उन्होंने कहा ‘मुझे उम्मीद है कि हम तब तक टोकरी छोड़ने से बच सकते हैं’। एआई जो मनुष्य की जगह ले सकता है। हॉकिंग ने दावा किया कि एआई जल्द ही एक स्तर पर पहुंच जाएगा जहां यह ‘जीवन का नया रूप होगा जो मनुष्य को मात देगा।’

हॉकिंग ने अधिक लोगों से विज्ञान में रुचि लेने के लिए भी आग्रह किया था, और दावा किया कि ऐसा नहीं होने पर ‘गंभीर परिणाम’ होंगे।

मानव आक्रामकता
हॉकिंग ने पहले चेतावनी दी है कि आक्रामकता मानवता की सबसे बड़ी असफलता है जो जीवन को नष्ट कर सकता है। यह टिप्पणी 2015 में वापस एक प्रश्न के जवाब में की गई थी कि वह मानव कमियों को कैसे बदल पाएंगे। विज्ञान संग्रहालय में दर्शकों से बात करते हुए, हॉकिंग ने कहा, ‘इंसान को असफल होने का सबसे बड़ा कारण है आक्रामकता। ‘गुफा काल में आक्रामकता की अधिकता से लाभ हो सकता था। अधिक भोजन या क्षेत्र के लिए, लेकिन अब तो हम सभी को नष्ट करने की धमकी देते हैं’, उन्होंने कहा कि उन्हें डर था कि विकास ने मानव जीनोम में ‘इनबिल्ट’ किया है, और टिप्पणी करते हुए कहा कि वर्तमान में संघर्ष कम करने का कोई संकेत नहीं है।

उन्होंने कहा कि सैन्यीकरण प्रौद्योगिकी और बड़े पैमाने पर विनाश के हथियारों का विकास इस प्रवृत्ति को और भी खतरनाक बना सकता है। उन्होंने कहा कि सहानुभूति मानव भावनाओं का सबसे अच्छा प्रदर्शन है और इसका मतलब है कि हम एक प्रेमपूर्ण दुनिया को एक साथ लाया जा सकता है।

एलियंस


हॉकिंग ने यह भी चेतावनी दी कि यदि हमें कभी एलियंस मिल जाए तो शायद वे हमें मिटा देंगे। स्टीफन हॉकिंग के पसंदीदा जगहों पर ऑनलाइन पोस्ट किए गए एक वीडियो में उन्होंने कहा, ‘जैसे-जैसे मैं वृद्ध हो जाता हूं, मैं उससे ज्यादा आश्वस्त हूँ कि हम यहाँ अकेले नहीं हैं।’ वे जिन स्थानों का दौरा करते हैं, उनमें से एक ग्लिसे 832 सी (Gliese 832c) है, जो एक ग्रह है जो लोग सोचते हैं कि यहाँ एलियन्स का घर हो सकता है।

‘एक दिन हम ग्लिसे 832 सी जैसे ग्रह से एक संकेत प्राप्त कर सकते हैं, लेकिन हमें जवाब देने से सावधान रहना चाहिए। ‘चूंकि वो एक उन्नत सभ्यता की समहू हो सकती है जो कोलंबस आने वाले मूल अमेरिकी जैसी हो सकती है। उन्होंने कहा कि किसी भी विदेशी सभ्यता जो इस ग्रह के नहीं हैं ‘बेहद शक्तिशाली होगी और हमें उससे सतर्क रहना चाहिए।

जनसंख्या


प्रसिद्ध वैज्ञानिक हॉकिंग ने यह भी चेतावनी दी कि मानव निर्मित तबाही हमारी प्रजातियों के लिए अंत हो सकता है। हॉकिंग ने 2016 में एक विचार पत्र में कहा, ‘हमारे इतिहास में किसी भी समय की तुलना में, हमारी प्रजातियों को एक साथ काम करने की जरूरत है’।

‘हम भयानक पर्यावरणीय चुनौतियों का सामना करते हैं जैसे जलवायु परिवर्तन, खाद्य उत्पादन, अधिक जनसंख्या, अन्य प्रजातियों के नाश, महामारी रोग, महासागरों का अम्लीकरण। उन्होंने कहा, हम मानवता के विकास में सबसे खतरनाक क्षण में हैं।’

उन्होंने चेतावनी दी थी कि इंसान इस नाजुक धरती पर 1,000 साल तक जीवित नहीं रह सकता। कैम्ब्रिज में एक बयान में, हॉकिंग ने मानवता की उत्पत्ति के बारे में एक घंटे के इतिहास को मौलिक सृजन मिथकों से ‘एम-थ्योरी’ द्वारा की गई सबसे आगे की भविष्यवाणियों के लिए थ्योरी दिया।

उन्होंने कहा ‘शायद एक दिन हम गुरुत्वाकर्षण की तरंगों का इस्तेमाल करने में सक्षम हो सकते हैं ताकि वे बिग बैंग कर के धरती को वापस पा सकें चूंकि ब्रह्माण्ड विज्ञान में हालिया जानकारी के अनुसार धरती अंतरिक्ष से ही प्राप्त किया गया है, लेकिन हमें मानवता के भविष्य के लिए अंतरिक्ष में भी जाना चाहिए। ‘मुझे नहीं लगता कि हम अपने नाजुक ग्रह से निकले बिना 1,000 साल तक जीवित रहेंगे।’

हॉकिंग ने कहा है कि वह वर्जिन बॉस रिचर्ड ब्रैंसन की राइड वर्जिन अटलांटिक अंतरिक्ष यान पर अंतरिक्ष में जाना चाहते थे, उन्होने आगे कहा ‘इसलिए मैं अंतरिक्ष में सार्वजनिक हित को प्रोत्साहित करना चाहता हूं, और मैं अपनी शुरुआत में प्रशिक्षण प्राप्त कर रहा हूं।’

हॉकिंग ने कहा ‘यह जीवित रहने और सैद्धांतिक भौतिकी में शोध करने का एक शानदार समय रहा है। ‘ब्रह्मांड की हमारी तस्वीर पिछले 50 सालों में जादुई तौर पर बदल गई है और अगर मैं एक छोटे से योगदान दिया है तो मैं खुश हूं।

‘तथ्य यह है कि हम स्वभाव के मूल कणों का संग्रह ही हैं, जो लोग हमें शासित कर रहे कानूनों को समझने के करीब आ सकते हैं और हमारा ब्रह्मांड एक महान उपलब्धि है।’

उन्होंने कहा ‘मुझे विश्वास है कि धरती पर जीवन किसी भी आपदा से खत्म हो जाने के खतरे में है, जैसे अचानक परमाणु युद्ध, आनुवंशिक रूप से इंजीनियर वायरस या अन्य खतरे।’ ‘मुझे लगता है कि मानव जाति का कोई भविष्य नहीं होगा यदि वह अंतरिक्ष में नहीं जाता है।’

ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के अपने युवा दर्शकों के लिए एक मर्मस्पर्शी याचिका को बनाते हुए, उन्होंने कहा ‘सितारों को देखना याद रखें और अपने पैरों के नीचे न जाएं। ‘जो आप देख रहे हैं और उस बारे में सोचने की कोशिश करें जो ब्रह्मांड को अस्तित्व में रखे हैं।

हमेशा उत्सुक रहें, हालांकि जीवन में हमेशा ऐसा लग सकता है कि आप कुछ भी कर सकते हैं और सफल हो सकते हैं – लेकिन यह तब मायने रखता है कि आप हार नहीं मान सकते।’

Top Stories