Tuesday , June 19 2018

स्टेट बैंक का उर्दू में चॆक क़बूल करने से इनकार

इलाहाबाद २० नवंबर ( यू एन आई ) उर्दू को हक़ दिलाने के लिए जद्द-ओ-जहद करने वाली तंज़ीम उर्दू डॆवलपमॆन्ट् आर्गेनाईज़ेशन ने स्टेट बैंक आफ़ इंडिया पर इल्ज़ाम आइद किया कि इस ने आर बी आई की हिदायात के बावजूद आज तक अपने बैंकों में उर्दू तालीम-ए-

इलाहाबाद २० नवंबर ( यू एन आई ) उर्दू को हक़ दिलाने के लिए जद्द-ओ-जहद करने वाली तंज़ीम उर्दू डॆवलपमॆन्ट् आर्गेनाईज़ेशन ने स्टेट बैंक आफ़ इंडिया पर इल्ज़ाम आइद किया कि इस ने आर बी आई की हिदायात के बावजूद आज तक अपने बैंकों में उर्दू तालीम-ए-याफ़ता मुलाज़िम का इंतिज़ाम नहीं किया है ।

अपने इस इल्ज़ाम के सबूत में तंज़ीम ने स्टेट बैंक आफ़ इंडिया की मीर पर इलहाबाद ब्रांच का रिटर्न मेमो भी फ़राहम किया है जिस में मैनेजर ने लिखा है कि डाक्टर परवेज़ के ज़रीया चैक नंबर 380747 मौरर्ख़ा 15 नवंबर को उर्दू में तहरीर करके अदायगी के लिए भेजा गया है चूँकि उर्दू की जानकारी केलिए ब्रांच में कोई मुलाज़िम नहीं है लिहाज़ा अदायगी नहीं हो सकती ।

तंज़ीम के क़ौमी सदर मुहम्मद अख़तर चूड़ी वाला ने अपने ब्यान में कहा कि सरकारी मुलाज़मीन को रियासत की दूसरी सरकारी ज़बान उर्दू से वाक़फ़ीयत होनी चाहियॆ। उन्हों ने उर्दू से वाक़िफ़ मुलाज़मीन के तक़र्रुर पर भी ज़ोर दिया।

TOPPOPULARRECENT