Thursday , June 21 2018

स्मगलर्स से ज़बत करदा सोना पुर-असरार तौर पर ग़ायब

क़ीमती धात की मिक़दार और क़दर बताने से महिकमा कस्टम्स का इनकार
नई दिल्ली: कस्टम्स डिपार्टमेंट ने स्मगलरों से ज़ब्त करदा सोने की मिक़दार और मालीयाती क़दर ( वैल्यू ) के इन्किशाफ़ से इनकार कर दिया है जो कि इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एय‌रपोर्ट के अहाते में महफ़ूज़ रखा गया है और ये उज़्र पेश किया है कि सिक्योरिटी वजूहात की बिना तफ़सीलात ज़ाहिर नहीं की जा सकतीं।

क़ानून हक़ इत्तेलात के तहत एक सवाल का जवाब देते हुए कस्टम्स ओहदेदारों ने बताया कि क़ीमती धात जो कि स्मगलर्स की तहवील से बिस्किट या जे़वरात की शक्ल में ज़ब्त करली गई है एय‌र पोर्ट टर्मिनलस के अंदर तहख़ानों में महफ़ूज़ कर दिया गया है ताहम कस्टम्स ओहदेदारों का ये जवाब ऐसे वक़्त सामने आया है जब एय‌रपोर्ट के अहाते में महफ़ूज़ करोड़ों रुपये के सोने की चोरी के मुसलसल वाक़ियात पेश आरहे हैं।

महिकमा कस्टम्स की हिफ़ाज़त से 23.6किलो सोना ग़ायब होने की शिकायत की गई है जिस पर दिल्ली पुलिस ने एफ़ आई आर दर्ज कर लिया है और लापता सोने की क़ीमत मार्किट में 6.2 करोड़ रुपये बताई जाती है। बावसूक़ ज़राए ने सोना ग़ायब होने की शिकायत पर महिकमा जाती तहक़ीक़ात की भी हुक्म दे दिया गया है ताहम मज़ीद तफ़सीलात बताने से गुरेज़ किया गया है।

उन्होंने कहा कि महिकमा कस्टम्स की हिफ़ाज़त और निगरानी से पुर-असरार अंदाज़ में सोना ग़ायब होने के मुसलसल वाक़ियात पेश आरहे हैं जिसके बाइस हिफ़ाज़ती ड्यूटी पर मुतय्यन कस्टम्स अहलकार, पुलिस और महिकमा के आला ओहदेदारों के शक के दायरे में आगए हैं। गुज़िश्ता माह-ए-जून में कस्टम्स हुक्काम ने पुलिस में ये शिकायत दर्ज करवाई है कि 11किलो सोना मालियती 2.62 करोड़ अचानक ग़ायब हो गया है।

गुज़िश्ता साल भी इस तरह का एक केस तहक़ीक़ात के लिए दर्ज किया गया था। लेकिन बेशतर केसों में सोना की जगह ज़र्द रंग की धात रख दी जाती है।

TOPPOPULARRECENT