Tuesday , December 12 2017

स्मिता सालस्कर अब मनाएंगी होली और दीवाली

मुंबई, २२ नवंबर: मुंबई पुलिस के एनकाउंटर स्पेशलिस्ट विजय सालस्कर एटीएस चीफ हेमंत करकरे और एडिशनल कमिश्नर अशोक काम्टे के साथ दहशतगर्दों से मुठभेड़ करते हुए शहीद हुए थे। तब उनकी बीवी स्मिता सालस्कर ने कसम खाई थी कि जब तक शौहर के कात

मुंबई, २२ नवंबर: मुंबई पुलिस के एनकाउंटर स्पेशलिस्ट विजय सालस्कर एटीएस चीफ हेमंत करकरे और एडिशनल कमिश्नर अशोक काम्टे के साथ दहशतगर्दों से मुठभेड़ करते हुए शहीद हुए थे। तब उनकी बीवी स्मिता सालस्कर ने कसम खाई थी कि जब तक शौहर के कातिल को फांसी नहीं हो जाती तब तक वह कोई त्योहार या पर्व नहीं मनाएंगी।

गुज़िश्ता चार सालों से न तो उन्होंने होली खेली, और न ही दीवाली मनायीं। जबकि विजय सालस्कर हर साल धूमधाम सभी त्योहार मनाते थे और उनका सबसे प्यारा त्योहार दीवाली था। दीवाली की रात कितनी भी देरी से लौटें पटाखे खूब छोड़ते थे।

स्मिता ने कहा कि यह सब मैंने सिर्फ अपने शौहर के लिए नहीं किया बल्कि उन सभी पुलिस आफसरों और पुलिस मुलाज़िमीन् के लिए किया, जिन्होंने अपनी जान की परवाह किए बिना खुद को मुल्क की हिफाजत के लिए न्योछावर कर दिया।

हेमंत करकरे की बीवी कविता ने भी कसाब को फांसी दिए जाने को सही बताया। लेकिन उन्होंने अफसोस जताया कि उसे सरेआम फांसी क्यों नहीं दी गई। बेगुनाहों को मौत के घाट उतारने वाले कसाब को अगर सरेआम फांसी दी जाती तो सभी को तसल्ली मिलती।

शहीद अशोक काम्टे की बेवा विनिता काम्टे ने कहा कि कसाब को फांसी दिए जाने पर उन्हें बहुत खुशी हुई है, लेकिन अब भी मुंबई हमले के मास्टर माइंड चैन से सरहद के उस पार बैठे हुए हैं। जब तक उन्हें सजा नहीं मिलती तब तक किसी भी हिंदुस्तानी को सच्ची खुशी नहीं मिलेगी।

TOPPOPULARRECENT