Friday , November 24 2017
Home / Editorial / स्मृति ईरानी के नाम खुला ख़त

स्मृति ईरानी के नाम खुला ख़त

simriti_irani

श्रीमती स्मृति “मल्होत्रा” ईरानी जी,

मैडम आपका पार्लियामेंट में दिया गया भाषण वाकई बेहतरीन था. मैंने आपको पहले अभिनय करते हुए कभी नहीं देखा क्योंकि घर में टीवी ही नहीं था. लेकिन आज जब यू ट्यूब पर आपका भाषण देखा तब मैं आपका भाषण देखकर दंग रह गया. स्मृति “मल्होत्रा” ईरानी जी मैं अपने इस पत्र के माध्यम से आपके भाषण के बारे में कुछ बातें करना चाहता हूँ. ज़ाहिर है आपने काफी मेहनत से तैयार किया होगा. लेकिन इतनी मेहनत के बाद भी आपने खुद को जाति रहित बताने की कोशिश कर सब बेकार कर दिया. मैडम यह भारत देश है. इस देश के बारे में बाबा भीम राव अम्बेडकर ने कहा है,

आप यहाँ अपना धर्म बदल सकते हैं, घर बदल सकते हैं परन्तु जाति नहीं बदल सकते . जाति कभी नहीं जाती .
मैडम यहाँ किसी की जाति का पता लगाना मुश्किल काम नहीं है. कभी-कभी सिर्फ उपनाम ही काफी होता है तो कभी-कभी हमारी ख़ुफ़िया एजेंसियां भी इस काम को बखूबी अंजाम देती हैं.

स्मृति “मल्होत्रा” ईरानी जी आपने अपने भाषण की शुरुआत इस वक्तव्य के साथ की कि आप किसी की मदद उसका धर्म या जाति देखकर नहीं करती और फिर आपने अपने इस कथन को साबित करने के लिए लगभग 66 हज़ार पत्रों में से कश्मीर के निवासी मुस्लिम छात्र इकबाल रसूल दार का नाम लिया. मैं इसके लिए आपको बधाई देना चाहता हूँ.

स्मृति “मल्होत्रा” ईरानी जी इसके पश्चात आपने जाति की राजनीति करने वाले नेताओं पर निशाना साधते हुए कहा कि उन्होंने एक बच्चे की मौत पर जातिगत ओछी राजनीति की है. रोहित आपके लिए एक बच्चे की तरह था और एक माँ होने के नाते आपने उसके लिए भावुक होने का प्रदर्शन भी किया. मुझे भी एक पल के लिए लगा कि आप सही कह रही हैं लेकिन फिर स्मृति “मल्होत्रा” ईरानी जी मेरे मन में यह सवाल उठा कि इस माँ को ऐसी क्या ज़रूरत आन पड़ी थी कि उसे रोहित को गैर दलित साबित करने के लिए ख़ुफ़िया एजेंसी का सहारा लेना पड़ा? क्या यह जाति आधारित राजनीति का हिस्सा नहीं था ?

स्मृति “मल्होत्रा” ईरानी जी आपने अपने भाषण में रोहित के नोट की आखरी लाइन “No one is responsible for my death.” को बार बार दोहराया. स्मृति “मल्होत्रा” ईरानी जी मैं जानना चाहता हूँ कि क्या आपको रोहित के नोट का सिर्फ यही अंश दिया गया था या आपने जानबूझ कर सिर्फ इसी अंश को पढ़ा. खैर दोनों ही संभावनाओं के मद्देनज़र में आपके साथ रोहित के नोट के कुछ अंश और साझा करना चाहता हूँ.

The value of a man was reduced to his immediate identity and nearest possibility. To a vote. To a number. To a thing. Never was a man treated as a mind. As a glorious thing made up of star dust. In every field, in studies, in streets, in politics, and in dying and living.
आगे वह लिखता है:

My birth is my fatal accident. I can never recover from my childhood loneliness. The unappreciated child from my past.
स्मृति “मल्होत्रा” ईरानी जी मुझे आपसे जानने की ख्वाहिश है कि आप जाति के प्रश्न पर क्यों भाग खड़ी होती हैं ? क्यों आप इन सवालों को सुनकर विचलित हो जाती हैं ? खैर मैं अब आपके भाषण के अगले हिस्से जेएनयू की तरफ बढ़ता हूँ. लेकिन उससे पहले मैं इतिहास से कुछ चीज़ें आपके समक्ष प्रस्तुत करना चाहता हूँ.

स्मृति “मल्होत्रा” ईरानी जी वर्ष 1989 में जब तत्कालीन प्रधानमंत्री ने मंडल कमीशन की रिपोर्ट लागू कर दलित और पिछड़ों के सामाजिक और आर्थिक न्याय की दिशा में काम करने की कोशिश की; दलित पिछड़ों ने भी इसको लागु करने के लिए लामबंद होना शुरू किया तब वह लामबंदी संघ की आँखों की किरकिरी बन गयी. इस आन्दोलन को शुरू होने से पहले ही खत्म करने के लिए दलित पिछड़ों को राम मंदिर निर्माण रथ यात्रा के लिए धर्म की बूटी दी | यह बूटी संघ के लिए वरदान साबित हुयी और मंडल कमीशन के कुछ को छोड़कर बाकि सुझाव आजतक लागू न हो सके. आज फिर वर्तमान समय में जब रोहित की शहादत के बाद दलित, पिछड़े और अल्पसंख्यक एक आन्दोलन के रूप में एक जुट हुए तब देश को जेएनयू की घटना के ज़रिये राष्ट्रवाद का घोल पिलाना शुरू कर दिया गया क्योंकि यह ज्ञात हो चुका हैं कि जनता धर्म की राजनीति से त्रस्त हो चुकी है तो ऐसे में राष्ट्रवाद ही आखरी उपाय बचता है. इस सन्दर्भ में समुअल जोनसन का कथन बिलकुल सटीक बैठा है:

Patriotism is the last refuge of scoundrel.
स्मृति “मल्होत्रा” ईरानी जी वैसे में सिर्फ आपसे सवाल ही नहीं करना चाहता बल्कि आपका आभार भी व्यक्त करना चाहता हूँ. आपका आभार व्यक्त करने की वजह आपके द्वारा जनता के साथ साझा किया गया Marcus Tullius Cicero का कथन है:

A nation can survive its fools, and even the ambitious. But it cannot survive treason from within. An enemy at the gates is less formidable, for he is known and carries his banner openly. But the traitor moves amongst those within the gate freely, his sly whispers rustling through all the alleys, heard in the very halls of government itself. For the traitor appears not a traitor; he speaks in accents familiar to his victims, and he wears their face and their arguments, he appeals to the baseness that lies deep in the hearts of all men. He rots the soul of a nation, he works secretly and unknown in the night to undermine the pillars of the city, he infects the body politic so that it can no longer resist. A murderer is less to fear.
स्मृति “मल्होत्रा” ईरानी जी इस कथन में बिलकुल सही कहा गया है कि एक देश अपने मूर्खों और महत्वकांशियों को निभा सकता है लेकिन अपने अन्दर के राजद्रोह को नहीं. मैं इस कथन से सहमत हूँ. आज भारत को खतरा है उन देशभक्तों से जिन्हें तिरंगे के तीन रंग अशुभ नज़र आते हैं. आज भारत को खतरा है उन देशभक्तों से जिन्होंने पांच दशक तक अपने मुख्यालय पर तिरंगा नहीं फेहराया. आज भारत को खतरा है उन देशभक्तों से जिनका आदर्श स्वतंत्र भारत का प्रथम हत्यारा है. आज भारत को खतरा है उन देशभक्तों से जिनका आदर्श हिटलर जैसा बर्बर शासक है. एक बार फिर से धन्यवाद स्मृति “मल्होत्रा” ईरानी जी इस कथन को साझा करने के लिए.

जय भीम जय हिन्द

मौ.ज़ाकिर रियाज़
(http://www.aainaezindagi.in/2016/02/blog-post.html) se

TOPPOPULARRECENT