Monday , November 20 2017
Home / India / स्याही का निशान केवल उन ही लोगों पर लगाया जाएगा जो नोट एक्सचेंज करवाने आ रहे हैं : RBI

स्याही का निशान केवल उन ही लोगों पर लगाया जाएगा जो नोट एक्सचेंज करवाने आ रहे हैं : RBI

नई दिल्ली : केन्द्र सरकार ने नोटबंदी की समस्या से जूझ रहे लोगों की परेशानी की कम करने का हल ढूंढ लिया है। इकोनॉमिक अफेयर्स सेक्रेटरी शक्तिकांत दास ने मंगलवार को बताया कि जो लोग एक बार 500-1000 के नोट एक्सचेंज करा लेंगे उनकेदाए हाथ की उंगली पर स्याही का निशान लगाया जाएगा। इस टेक्नीक के इस्तेमाल से जरूरतमंद लोगों को पैसा निकाल में थोड़ी आसानी जरूर होगी। यह नियम सभी बैंकों में बुधवार सुबह से लागू किया जाएगा। इसके साथ आरबीआई ने एक चीज का स्पष्ट तौर पर जिक्र किया कि यह स्याही का निशान केवल उन ही लोगों की उंगली पर लगाया जाएगा जो नोट एक्सचेंज करवाने आ रहे है। जो लोग अपने खाते से पैसे निकालने के लिए लाइन में लगे हुए है, उनकी उंगली पर स्याही का निशान नहीं लगेगा। यानि अब यह स्पष्ट हो गया कि व्यक्ति को अपने खाते से पैसा निकलवाने के लिए उंगली पर कोई स्याही नहीं लगवानी पड़ेगी। शक्तिकांत दास ने मीडियाकर्मियों से रूबरू होते हुए बताया कि कुछ लोग अपना पैसा एक्सचेंज कराने के लिए एक दिन में कई बार लाइन में लग रहे है और बार-बार अपना पैसा एक्सचेंज करवा रहे है। जिसके चलते कई जरूरतमंदों का एक बार भी नंबर नहीं आ पाता है।

दास ने कहा लेकिन स्याही वाला नियम लगने के बाद इस परेशानी से थोड़ी निजात जरूर मिलेगी। हालांकि उन्होंने यह नहीं बताया कि एक व्यक्ति स्याही लगवाने के बाद कितने दिन तक दोबारा पैसे एक्सचेंज नहीं करवा सकता।दास ने बताया कि देश के बड़े शहरों में यह प्रकिया आज से ही लागू कर दी जाएगी। इस बाबत सभी बैंकों को अधिकारिक निर्देश भेजदिए गए है। उन्होंने कुछ लोगों ने तो बार-बार पैसा बदलवाने का धंधा ही बना रखा है। लेकिन सरकार के इस कदम से उन जरूर लगाम लगेगी। हालांकि इकोनॉमिक अफेयर्स सेक्रेटरी इस सवाल का जवाब टाल गए कि आखिर क्यों कुछ प्राइवेट हॉस्पिटल और मेडिकल स्टोर्स 500-1000 के पुराने नोट नहीं ले रहे हैं। जब मीडियाकर्मियों ने उनसे जोर देकर सवाल किया तो उन्होंने कहा कि सरकारी हॉस्पिटल्स में पुराने नोट इस्तेमाल करने की फैसिलिटी अवेलेबल है। अगर कुछ सरकारी हॉस्पिटल्स या फार्मेसी ये फैसिलिटी नहीं दे रहे हैं और उनके स्पेसिफिक मामले सामने आएंगे तो हम कार्रवाई करेंगे। बतर दे देश में ऐसा पहली बार होगा जब इलेक्शन वोटिंग के इतर किसी काम में इतने बड़े पैमाने पर लोगों की उंगलियों पर स्याही का इस्तेमाल होगा।

इस बीच, मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट ने नोटबंदी के फैसले पर रोक लगाने से इनकार कर दिया। एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने 500 और 1000 रुपये के नोट बंद किए जाने के बाद आम लोगों को हो रही परेशानी पर केंद्र से कहा कि आम आदमी को परेशानी न हो, इसके लिए सुनिश्चित कदम उठाए जाने चाहिए। कोर्ट ने सरकार को हालात सुधारने के लिए जरूरी कदम उठाने के निर्देश भी दिए। कोर्ट ने इस मुद्दे की अगली सुनवाई 25 नवंबर तक के लिए टाल दी है। वहीं सरकार के इस फैसले पर विपक्षी पार्टी कांग्रेस सवाल खड़े किए। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने प्रेस कॉन्फ्रेंसमें कहा कि नाखून पर इंक लगाने जा रहे हैं, इसका कानून के साथ ताल्लुक नहीं है। मैं अपना पैसा एक्सचेंज क्यूं नहीं करवा सकता है। इसके लिए आप मुझे कैसे रोक सकते हो।

TOPPOPULARRECENT