Monday , December 11 2017

स्विटजरलैंड से बैंक मालूमात में शराकतदारी की ख़ाहिश

हुकूमत-ए-स्विटज‌रलैंड का तफ़सिलात के इन्किशाफ़ से इनकार, मर्कज़ी वज़ीरे फाइनेंस अरूण जेटली का तबसरा

हुकूमत-ए-स्विटज‌रलैंड का तफ़सिलात के इन्किशाफ़ से इनकार, मर्कज़ी वज़ीरे फाइनेंस अरूण जेटली का तबसरा

योरपी मुल्क से मालूमात में शराकतदारी हासिल करने की कोशिश करते हुए मर्कज़ी वज़ीर फाइनेंस अरूण जेटली ने आज कहा कि हुकूमत स्विटज‌रलैंड को मकतूब रवाना करते हुए हिन्दुस्तानियों के ग़ैर मह्सूब रक़म की तफ़सिलात सोइज़ बैंकों से हासिल करने की कोशिश करेगी।

मर्कज़ी वज़ीर फाइनेंस का ये तबसरा हुकूमत स्विटज़रलैंड के एक ओहदेदार की जानिब से पी टी आई को ये इत्तेला देने के बाद मंज़रे आम पर आया है कि बाज़ अफ़राद और शख़्सियात जो स्विटज़रलैंड के ओहदेदारों की ज़ेर-ए-निगरानी हैं, के बारे में तफ़सिलात में हिन्दुस्तान को शरीक किया जाएगा।

जेटली ने कहा कि इस सिलसिले में सरकारी तौर पर हुनूज़ कोई मकतूब वसूल नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि हिन्दुस्तान अपने तौर पर आज सोइज़ ओहदेदारों को मकतूब रवाना कररहा है, जिन के साथ मर्कज़ी विज़ारत‍-ए‍-फाइनेंस रब्त में है ताकि ओहदेदारों से जितनी भी मुम्किन होसके, मालूमात हासिल की जाएं।

हुकूमत‍-ए-हिंद और सोइज़ ओहदेदारों के दरमियान तआवुन क़ायम किया जाये जिस के समरावर नताइज बरामद होंगे। उन्होंने कहा कि आज ही मकतूब रवाना कर दिया जाएगा। वो सोइज़ बैंकों में ग़ैर मह्सूब रक़म जमा करने वाले हिन्दुस्तानियों के मसले का हवाला दे रहे थे।

उन्होंने कहा कि सोइज़ ओहदेदारों के हवाले से ज़राए इब्लाग़ के मुख़्तलिफ़ गोशों में ख़बरें शाय हुई हैं कि वो हुकूमत-ए-हिंद के साथ सरगर्म तआवुन करने तैयार है और सोइज़ बैंकों में ग़ैर मह्सूब रक़्म जमा करवाने वाले हिन्दुस्तानियों के बारे में तफ़सीलात फ़राहम करेंगे। स्विटज़रलैंड के सैंटर्ल बैंक के ताज़ा तरीन आदाद-ओ-शुमार के बमूजब 2013 में सोइज़ बैंकों में जमा हिन्दुस्तानी रक़म में 43% इज़ाफ़ा हुआ था और वो 14 हज़ार करोड़ रुपये के क़रीब होगई थी।

इस में हिन्दुस्तानियों की जानिब से रास्त तौर पर जमा करवाई गई रकमें भी शामिल हैं। कालाधन वापिस लाने की कोशिश के एक हिस्से के तौर पर नरेंद्र मोदी की काबीना ने पहले ही दिन एक ख़ुसूसी तहक़ीक़ाती टीम क़ायम करदी थी ताकि नाजायज़ आमदनी का पता चलाया जा सके जिस के सरबराह एमबी शाह हैं और कमेटी का पहला इजलास 2 जून को मुनाक़िद किया जा चुका है।

टीम में सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज अरीजीत पसाइत नायब सदर नशीन, मोतमिद मालिया, डाइरेक्टर्स सी बी आई, आई बी, रा, ई डी , सी बी डी टी के सदर नशीन और आर बी आई के डिप्टी गवर्नर बहैसियत अरकान शामिल हैं।

TOPPOPULARRECENT