Sunday , September 23 2018

हंगामी तिब्बी इमदाद ( Emergency medical assistance) की 104 सर्विस में बेहतरी के इक़दामात

हुकूमत हंगामी तिब्बी इमदाद ( Emergency medical assistance) बहम पहूँचाने वाली 104 सर्विसेस की ख़िदमात में मज़ीद बेहतरी पैदा करने और इस सर्विस को वुसअत (extension) देने इक़दामात कर रही है । फ़िलवक़्त 104 सर्विस में सिर्फ पैरा मैडीकल स्टाफ़ के ज़रीया हंगामी न

हुकूमत हंगामी तिब्बी इमदाद ( Emergency medical assistance) बहम पहूँचाने वाली 104 सर्विसेस की ख़िदमात में मज़ीद बेहतरी पैदा करने और इस सर्विस को वुसअत (extension) देने इक़दामात कर रही है । फ़िलवक़्त 104 सर्विस में सिर्फ पैरा मैडीकल स्टाफ़ के ज़रीया हंगामी नौइयत (प्रकार)  की तिब्बी ख़िदमात(Medical services) अंजाम दी जा रही हैं लेकिन आइन्दा इस सर्विस में हंगामी नौइयत  (प्रकार) की तिब्बी इमदाद बहम पहूँचाने एक मेडीकल ऑफीसर की निगरानी में पैरा मैडीकल-ओ-मैडीकल स्टाफ़ से तिब्बी ख़िदमात(Medical services) देही अवाम को मूसिर अंदाज़ में पहूँचाई जाएंगी ।

मिस्टर प्रवीण प्रकाश कमिशनर महिकमा-ए-सेहत-ओ-फैमिली वेलफ़ेर ने कहा कि 104 हंगामी नवीयत की तिब्बी ख़िदमात फ़राहम करने फ़िलवक़्त 17 हज़ार रुपय ख़र्च किए जा रहे हैं लेकिन इन रक़ूमात में इज़ाफ़ा करके हुकूमत ने 40 हज़ार रुपय किया है । इलावा अज़ीं मुख़्तलिफ़ टेस्ट्स के ज़रीया अमराज़(बिमारी) का पता चलाते हुए मुनासिब ईलाज के लिए लेबोरेट्री की 104 सर्विस में सहूलतें फ़राहम की जा रही हैं ।04 सर्विस में अब तक 24 इक़साम (प्रकार) की अदवियात (दवाइयां) फ़राहम की जाती थीं लेकिन इन अदवियात (दवाइयां) के इक़साम(प्रकार) की तादाद को 24 से बढ़ाकर 42 करदी गई हैं ।

उन्हों ने कहा कि टीका अंदाज़ी-ओ-वबाई अमराज़ का तहफ़्फ़ुज़-ओ-इंसिदाद के प्रोग्रामों को 104 सर्विस से मरबूत किया जा रहा है । कमिशनर सेहत-ओ-ख़ानदानी बहबूद ने बताया कि आइन्दा से डाक्टर की निगरानी में देही गरीब अफ़राद के लिए तिब्बी मोआइनो का इंतिज़ाम किया जाएगा और मूसिर ईलाज किया जाएगा । हामिला ख्वातीन का हर माह मुआइना करते हुए उन्हें अदवियात (दवाइयां) फ़राहम की जाएंगी,

और कहा कि मोवाज़आत तक पहूँचाने वाली 104 सर्विस क्लिनिक्स के ज़रीया फ़राहम की जाने वाली तिब्बी सहूलतों से भरपूर इस्तिफ़ादा करने की अवाम से ख्वाहिश की गई । उन्हों ने कहा कि 104 सर्विस क्लिनिक्स में फ़राहम की जाने वाली तमाम तिब्बी सहूलतें मुकम्मल तौर पर मुफ़्त रहेंगी ।

इस तरह रियासत के 22 अज़ला में देही तिब्बी सहूलतों की फ़राहमी 104 सर्विस क्लिनिक्स के ज़रीया बहम पहूँचाते हुए इन सहूलतों को मूसिर-ओ-मुस्तहकम बनाने हुकूमत की जानिब से इक़दामात किए जा रहे हैं ।

TOPPOPULARRECENT