Thursday , May 24 2018

हज़ारों एहतिजाजी मिस्रियों का मोर्सी को क़तई इंतिबाह

क़ाहिरा, 05 दिसंबर:(पीटीआई)हज़ारों की तादाद मे बरहम एहतिजाजी आज मिस्री दार-उल-हकूमत और दीगर शहरों की सड़कों और चौराहों पर निकल आए जबकि बड़े अख़बारात ने ख़बरों का बाईकॉट करते हुए उजलत में मुदव्वन करदा मुसव्वदा दस्तूर के ख़िलाफ़ एहतिजाज कि

क़ाहिरा, 05 दिसंबर:(पीटीआई)हज़ारों की तादाद मे बरहम एहतिजाजी आज मिस्री दार-उल-हकूमत और दीगर शहरों की सड़कों और चौराहों पर निकल आए जबकि बड़े अख़बारात ने ख़बरों का बाईकॉट करते हुए उजलत में मुदव्वन करदा मुसव्वदा दस्तूर के ख़िलाफ़ एहतिजाज किया जिस पर 15 दिसंबर को रेफ़रंडम कराया जाएगा ।

ये एहतिजाज मुसव्वदा चार्टर और उन फरमानों के बारे में बढ़ती हुई बरहमी ( गुस्से) के दरमियान हुआ है जो मुहम्मद मोर्सी ने जारी करते हुए ख़ुद को ग़ैरमामूली इख़्तेयारात अता कर लिए और शूरा (सलाह) कौंसल को तहलील से इस्तिस्ना दे दिया।

एहतिजाजियों ने इन जुलूसों को क़तई इंतिबाह क़रार दिया। पुलिस ने आँसू गैस के शॅल फ़ायर किए जबकि एहतिजाजी सदारती महल के रूबरू जमा होकर मुसव्वदा दस्तूर और दस्तूर साज़ असेंबली के ख़िलाफ़ नारे बुलंद करते हुए अपने हाथों में ऐसे बैनर्स उठा रखे थे जिन पर तहरीर था कि हम इस मुल्क के मज़हब को इस्तेमाल करते हुए दो हिस्सों में तक़सीम और हम दस्तूरी आलामीया को मुस्तरद करते हैं।

एहतिजाजियों ने नारे लगाए कि हमें रोटी , आज़ादी चाहीए और हम दस्तूर साज़ असेंबली को ठुकराते हैं। नीज़ इख़वान अलमुस्लिमीन की हुक्मरानी मुर्दाबाद। एहतिजाजियों ने सदारती महल से चंद सौ मीटर तक नसब ख़ारदार तारों को फलांग कर आगे बढ़ने की कोशिश की जिस पर पुलिस ने आँसू गैस का इस्तेमाल किया।

अल अरबिया न्यूज़ नेटवर्क के मुताबिक़ एहतिजाजियों और पुलिस फ़ोर्सस के दरमियान झड़पों में 10 अफ़राद ज़ख्मी हुए हैं। 11 ख़ानगी मिल्कियती अख़बारात ने आज मिस्र के मुसव्वदा दस्तूर में आज़ादी इज़हार ख़्याल पर तहदेदात के ख़िलाफ़ बतौर‍ ए‍ एहतिजाज अपनी इशाअत रोक दी।

एक रोज़ा बाईकॉट अब तक का शदीद इक़दाम है जो आज़ाद ख़्याल और सैक्यूलर ग्रुपों की जानिब से नए मुसव्वदा चार्टर को मात देने की कोशिश में किया गया है। इस चार्टर को इस्लामी ग़लबा वाली असेंबली की जानिब से जुमा को मंज़ूर किया गया हालाँकि लगभग तमाम गैर इस्लाम पसंद मंदूबीन ने बाईकॉट और एतराज़ किया था।

मुसव्वदा फ़रमान के मुताबिक़ न्यूज़ मीडिया का एक मक़सद तो अवामी अख़लाक़ को बरक़रार रखना और मिस्री रवायात की हक़ीक़ी नवीत को सरबुलंद रखना है और इस ज़िमन में किसी टेलीवीज़न स्टेशन यह वेब साईट को चलाने की मंज़ूरी ज़रूरी होती है।

TOPPOPULARRECENT