Tuesday , February 20 2018

हज़ूर ऐ की ज़ात इंसानियत के लिए आला अमली नमूना

हैदराबाद ।१‍७ फरवरी : अल्लाह ताली का क़ानून हर ज़ी नफ़स और हर उम्र और जिन्स के लिए है । इंसान की इबतदा-ए-से लेकर मौत और मौत के बाद कफ़नदफ़न तक है । शीरख़वार बच्चा जब माँ की गोद में होता है तो पैग़ाम रिसालत है कि इस की परवरिश करो इस के अख

हैदराबाद ।१‍७ फरवरी : अल्लाह ताली का क़ानून हर ज़ी नफ़स और हर उम्र और जिन्स के लिए है । इंसान की इबतदा-ए-से लेकर मौत और मौत के बाद कफ़नदफ़न तक है । शीरख़वार बच्चा जब माँ की गोद में होता है तो पैग़ाम रिसालत है कि इस की परवरिश करो इस के अख़राजात बाप उठाए और वो सात दिन का होजाए तो इस काअक़ीक़ा करो ।

माँ दूध ना पिला सके या इनकार करे तो मुआवज़ा दे कर इस के दूध का इंतिज़ाम किया जाय । शौहर को बीवी का , मालिक को नौकर-ओ-ग़ुलाम का , अमीर को जमात का , हाकिम को रियाया का , इमाम को मुक़तदियों का , ख़लीफ़ा को रियासत का ,ताजिर को इस के माल और गाहक का , ताक़तवर को कमज़ोर का और साहिब इस्तिताअतको मजबूर बेबस का ज़िम्मेदार क़रार दिया । इन ख़्यालात का इज़हार मुहतरमा रुक़य्याफ़र्ज़ाना पैग़ाम रिसालत के उनवान पर मुस्लिम गर्लज़ एसोसी उष्ण की जानिब से नॉर्थ ज़ोन में मुनाक़िद करदा सीरत उन्नबी(सल.) परोगरम लमरा फंक्शन हाल , अरा गड्डा में ख़वातीन-ओ-तालिबात के लिए मुनाक़िद किया गया ।

मुहतरमा मैमूना सुलताना ने नबी करीम ई अमली नमूना के उनवान पर मुख़ातब करते हुए कहा कि आपऐ की ज़ातइंसानियत के लिए एक आली अमली नमूना थी । मुहतरमा मुफ़ीज़ा सुलताना ने फ़तहमक्का के मौज़ू पर तक़रीर की । मुहतरमा ज़ुबेदा बेगम ने नबी करीम की मुक्की-ओ-मदनी ज़िंदगी पर रोशनी डाली । मुहतरमा आसीया बेगम ने नबी करीम ई के अख़लाक़-ए-आलियाके बारे में बताया । मुहतरमा ख़ैर अलनिसा-ए-ने दरस क़ुरआन पेश किया और मुहतरमाअतीया नाज़ ने जलसे की कार्रवाई चलाई

TOPPOPULARRECENT