हज पर जाने वाली 45 वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं को सऊदी अरब की सरकार ने दी बड़ी राहत!

हज पर जाने वाली 45 वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं को सऊदी अरब की सरकार ने दी बड़ी राहत!

सऊदी अरब ने भारत को हज नियमों में ढील देते हुए 45 साल से अधिक उम्र की महिलाओं को बिना महरम अर्थात (जिससे महिला की शादी नहीं हो सकती) के हज पर आने की अनुमति दे दी है।

समाचार एजेंसी तसनीम की रिपोर्ट के मुताबिक़ सऊदी सरकार ने भारत सरकार के उस आवेदन को स्वीकार कर लिया है, जिसमें दिल्ली सरकार ने 45 वर्ष से अधिक उम्र की भारतीय महिलाओं को बिना किसी महरम के कम से कम चार तीर्थयात्रियों के एक समूह के साथ हज पर आने की अनुमति दे दी है।

भारत सरकार ने 2014 के हज नियमों में संशोधन के लिए सऊदी सरकार के सामने प्रस्ताव रखा था जिसमें रियाज़ सरकार से यह कहा गया था कि 45 साल से अधिक आयु की महिलाओं को महरम के बंधन से अज़ाद किया जाए ताकि वे कम से कम चार हज यात्रियों के समूह के साथ तीर्थयात्रा कर सके।

उल्लेखनीय है कि हज इस्लाम के 10 मौलिक सिद्धांतों में से एक है और जब किसी के पास इतना पैसा हो जाए कि वह बिना किसी मुश्किल और परिवार को संकट में डाले हज कर सकता है तो उसपर जीवन में एक बार हज पर जाना अनिवार्य हो जाता है।

अभी तक मुस्लिम महिलाओं के लिए हज पर जाना थोड़ा मुश्किल हो जाता था क्योंकि उन्हें हज पर जाने के लिए किसी महरम साथी के साथ की आवश्यकता होती थी, लेकिन इस साल भारत और सऊदी अरब के बीच हुए समझौते के बाद अब भारतीय मुस्लिम महिलाएं बिना महरम के हज पर जा सकेंगी।

दूसरी ओर इस ख़बर के बाद हज पर जाने वाली भारतीय महिलाओं में ख़ुशी की लहर दौड़ गई है। भारतीय मुस्लिम महिलाओं को मिले इस अधिकार के बाद केवल उत्तर प्रदेश से इस साल अकेले हज पर जाने के लिए अब तक बड़ी संख्या में महिलाएं आवेदन दे चुकी हैं।

सूत्रों का दावा है कि पिछले साल की तुलना में इस साल हज के लिए आवेदन करने वाली भारतीय महिलाओं की संख्या पांच गुना तक बढ़ सकती है।

साभार- ‘parstoday.com’

Top Stories