Monday , December 11 2017

हज : ख़ानगी टूर आपरेटर्स को उबूरी राहत

बॉम्बे हाइकोर्ट ने मर्कज़ी हुकूमत को ख़ानगी टूर आपरेटर्स को सफ़र हज के एहतेमाम के लिए नाअहल क़रार देने से बाज़ रखा। अदालत ने ऑल इंडिया हज उमरा टूर आर्गेनाईज़र्स एसोसीएष्ण और दीगर दो की दरख़ास्त की समाअत के दौरान ये हिदायत जारी की।

बॉम्बे हाइकोर्ट ने मर्कज़ी हुकूमत को ख़ानगी टूर आपरेटर्स को सफ़र हज के एहतेमाम के लिए नाअहल क़रार देने से बाज़ रखा। अदालत ने ऑल इंडिया हज उमरा टूर आर्गेनाईज़र्स एसोसीएष्ण और दीगर दो की दरख़ास्त की समाअत के दौरान ये हिदायत जारी की।

दरख़ास्त गुज़ारों ने हुकूमत की जानिब से 28 अप्रैल को जारी करदा सहाफ़ती आलामीया को चैलेंज किया और सुप्रीम कोर्ट की हिदायत के बरअक्स क़रार दिया था।

जस्टिस एससी गुप्ते और जस्टिस के आर सिरी राम पर मुश्तमिल बेंच ने कहा कि इस मसले पर अदालत उस वक़्त ग़ौर करेगी जब सरमाई तातीलात के बाद अदलिया दुबारा शुरू होगी और उस वक़्त तक उबूरी राहत फ़राहम की जा रही है।

बेंच ने ये माम‌ला 10 जून को बाक़ायदा अदालत के लिए रुजू कर दिया और तब तक ये हिदायत दी कि सहाफ़ती आलामिया की बुनियाद पर किसी भी ख़ानगी टूर ऑप्रेटर को नाअहल क़रार ना दिया जाये।

हुकूमत ने सहाफ़ती आलामिया में ऐसे आपरेटर्स के तक़र्रुर के लिए क़वाइद की सर अहित की है।

TOPPOPULARRECENT