Monday , December 18 2017

हज 2014 की दरख़ास्तों के लिए हुजूम 15 मार्च आख़िरी तारीख

हज 2014 के लिए हज कमेटी के दफ़्तर वाक़्ये हज हाइज़ नामपली में दरख़ास्तों के हुसूल के लिए आज़मीने हज्ज का हुजूम देखा जा रहा है।

हज 2014 के लिए हज कमेटी के दफ़्तर वाक़्ये हज हाइज़ नामपली में दरख़ास्तों के हुसूल के लिए आज़मीने हज्ज का हुजूम देखा जा रहा है।

बताया जाता है कि पिछ्ले दो दिन में हैदराबाद में 4 हज़ार दरख़ास्तें हासिल की गईं और तक़रीबन 400 दरख़ास्तें दाख़िल की गई हैं। दरख़ास्तों की इजराई और इदख़ाल की आख़िरी तारीख़ 15 मार्च मुक़र्रर की गई है। सेंट्रल हज कमेटी से 20 हज़ार दरख़ास्त फ़ार्म वसूल हुए थे और हर ज़िला को तक़रीबन 300 दरख़ास्त फ़ार्म रवाना किए गए हैं।

दरख़ास्त फ़ार्म की क़िल्लत के इमकानात को देखते हुए नए फॉर्म्स की प्रिंटिंग का फ़ैसला किया गयाहै। सेंट्रल हज कमेटी ने अभी तक हज 2014 के मुकम्मिल ख़र्च की रक़म का ताय्युन नहीं किया।

इस के अलावा आंध्र प्रदेश के लिए कोटा का ताय्युन भी बाक़ी है।70 साल से ज़ाएद उम्र के आज़मीने हज्ज का बगै़र क़ुरआ अंदाज़ी के रास्त इंतेख़ाब करलिया जाएगा जबकि मुसलसिल तीन मर्तबा क़ुरआ अंदाज़ी में इंतेख़ाब से महरूम आज़मीने हज्ज को भी क़ुरआ अंदाज़ी के बगै़र मुंतख़ब करलिया जाएगा।

इन दो महफ़ूज़ ज़मरों के आज़मीने हज्ज से अपील की गई है कि वो दरख़ास्तों के इदख़ाल के वक़्त असल पासपोर्ट हवाला करदें। स्पेशल ऑफीसर हज कमेटी प्रोफेसर एसए शकूर और एग्जीक्यूटिव अफ़ीसर एम ए हमीद की निगरानी में ओहदेदार और मुलाज़िमीन आज़मीने हज्ज की रहनुमाई कररहे हैं।

दरख़ास्तों को पुर करने बाज़ रज़ाकाराना तंज़ीमों के वालेंटरस हज हाउज़ में मौजूद हैं जबकि हज कमेटी ने दरख़ास्तें ऑनलाइन करने के लिए आउट सोरसिंग पर आपरेटर्स की ख़िदमात हासिल की हैं।

TOPPOPULARRECENT