Monday , December 18 2017

हदीस शरीफ

हजरत अबू हुरैरा रज़ी अल्लाहु तआला अनहु से रिवायत है रसूल-ए-पाक (स०) ने फ़रमाया,अल्लाह तआला का इरशाद है के, मैं बंदा के गुमान के साथ साथ हूँ उसे इख्तियार है, मेरे साथ जैसा चाहे गुमान कायम करले।( बुखारी व मुस्लिम)

हजरत अबू हुरैरा रज़ी अल्लाहु तआला अनहु से रिवायत है रसूल-ए-पाक (स०) ने फ़रमाया,अल्लाह तआला का इरशाद है के, मैं बंदा के गुमान के साथ साथ हूँ उसे इख्तियार है, मेरे साथ जैसा चाहे गुमान कायम करले।( बुखारी व मुस्लिम)

TOPPOPULARRECENT